Tuesday , December 12 2017

औक़ाफ़ी जायदादों की मोअस्सर हिफाज़त के लिए ख़ौफ़े ख़ुदा ज़रूरी

मर्कज़ी वज़ीर अक़लीयती उमूर रहमान ख़ान ने आंध्र प्रदेश में औक़ाफ़ी जायदादों के तहफ़्फ़ुज़ के लिए हुकूमत की जानिब से किए गए हालिया इक़्दामात की सताइश की है। उन्हों ने आज नई दिल्ली में क़ौमी वक़्फ़ तरक़्क़ियाती कारपोरेशन की इफ़्तिताही तक़

मर्कज़ी वज़ीर अक़लीयती उमूर रहमान ख़ान ने आंध्र प्रदेश में औक़ाफ़ी जायदादों के तहफ़्फ़ुज़ के लिए हुकूमत की जानिब से किए गए हालिया इक़्दामात की सताइश की है। उन्हों ने आज नई दिल्ली में क़ौमी वक़्फ़ तरक़्क़ियाती कारपोरेशन की इफ़्तिताही तक़रीब के मौक़ा पर दीगर रियास्तों के वुज़रा और ओहदेदारों के साथ मुशावरत के दौरान इन ख़्यालात का इज़हार किया।

इफ़्तिताही तक़रीब के बाद रहमान ख़ान ने मुख़्तलिफ़ रियासतों के वुज़राए अक़लीयती बहबूद, सेक्रेट्रीज़ और स्पेशल ऑफीसर्स वक़्फ़ बोर्ड के साथ औक़ाफ़ी जायदादों के तहफ़्फ़ुज़ और उन की तरक़्क़ी से मुताल्लिक़ उमूर का जायज़ा लिया।

उन्हों ने बताया कि अगर औक़ाफ़ी जायदादों का बेहतर तौर पर इस्तेमाल किया जाए तो उन से होने वाली आमदनी को अक़लीयतों की तरक़्क़ी पर ख़र्च किया जा सकता है। उन्हों ने कहा कि औक़ाफ़ी जायदादों के तहफ़्फ़ुज़ के लिए ज़रूरी है कि ओहदेदारों के साथ साथ अवाम का भी तआवुन हासिल हो।

जब तक औक़ाफ़ी जायदादों की हिफाज़त के मसअले पर ख़ौफ़े ख़ुदा पैदा नहीं होगा, उस वक़्त तक मुसबत नताइज की उम्मीद नहीं की जा सकती कीवनका औक़ाफ़ी जायदादें अल्लाह की अमानत होती है।

उन्हों ने आंध्र प्रदेश वक़्फ़ बोर्ड की जानिब से नए क़वानीन के तहत की गई कार्यवाईयों की सताइश की और दीगर रियासतों के ओहदेदारों को मश्वरा दिया कि वो आंध्र प्रदेश के इक़दामात को मशअले राह बनाएं। इजलास में स्पेशल सेक्रेट्री अक़लीयती बहबूद सैयद उमर जलील के इलावा मैनेजिंग डायरेक्टर अक़लीयती फ़ाइनेन्स कारपोरेशन प्रोफेसर एस ए शकूर ने शिरकत की।

TOPPOPULARRECENT