कचौड़ी वाला निकला करोड़पति, सालाना टर्न ओवर 60 लाख से ज़्यादा

कचौड़ी वाला निकला करोड़पति, सालाना टर्न ओवर 60 लाख से ज़्यादा
Moong Dal Kachori Recipe From Indian Cuisine By Sonia Goyal

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में काफी हैरान करने वामा मामला सामने आया है. यहां एक पकौड़ी तलने वाला करोड़पति निकला है. इस मामले के सामने आने के बाद से आम लोगों के साथ-साथ जांच एजेंसियां भी भी काफी हैरान हैं.

एजेंसियों को पकौड़ी तलने के जांच में पता चला कि उसका सालाना का टर्नओवर करोड़ के पार है. सालाना इतना ज्यादा टर्नओवर होने के बावजूद व्यापारी ने जीएसटी के तहत अपना रजिस्ट्रेशन नहीं करवाया है. इस वजह से स्टेट इंटेलीजेंस ब्यूरो ने कचौड़ी वाले को नोटिस जारी किया है.

हिन्दुस्तान में छपी खबर के मुताबिक, अलीगढ़ के सीमा टॉकीज के पास एक पकौड़ी तलने वाले की दुकान है. व्यापारी का नाम मुकेश है. मुकेश पिछले 10-12 सालों से यह कचौड़ी की दुकान चला रहा है. इस बात शिकायत स्टेट इंटेलीजेंस ब्यूरो, लखनऊ को पिछले कुछ दिनों पहले मिली थी.

कचौड़ी वाला निकला करोड़पति, सालाना टर्न ओवर 60 लाख से ज़्यादा 1

जांच एजेंसियों को शिकायत मिलने के बाद वह अलीगढ़ पहुंची, जिसके बाद अलीगढ़ वाणिज्य कर विभाग की टीम ने शुरुआती जांच में दुकान की तलाश की. जहां से जांच अधिकारियों को बिक्री के बारे में कुछ दस्तावेज बरामद हुए. इसके बाद 21 जून को एजेंसी की विभाग की टीम ने दुकान पर छापेमारी की.

जांच एजेंसियों को शिकायत मिलने के बाद वह अलीगढ़ पहुंची, जिसके बाद अलीगढ़ वाणिज्य कर विभाग की टीम ने शुरुआती जांच में दुकान की तलाश की. जहां से जांच अधिकारियों को बिक्री के बारे में कुछ दस्तावेज बरामद हुए. इसके बाद 21 जून को एजेंसी की विभाग की टीम ने दुकान पर छापेमारी की.

छापेमारी के बाद व्यापारी मुकेश ने भी सालाना टर्वओवर के बारे में बताते हुए कहा कि उसकी सालाना टर्नओवर लाखों रुपए होती है. खबरों के मुताबिक, मुकेश ने ग्राहकों की संख्या, कच्चे माल की खरीद, रिफाइंड, चीनी और गैस सिलेंडर पर होने वाले खर्च के बारे में पूरा ब्यौरा जांच अधिकारियों को दिया.

मालूम हो कि सरकार के नियमानुसार, जिनका सालाना टर्नओवर 40 लाख रुपए से अधिक होता है, उन्हें जीएसटी में पंजीकरण कराना अनिवार्य होता है. व्यापारी मुकेश ने एजेंसी के सामने खुद कबूल किया कि उसका सालान टर्नओवर 60 लाख रुपए से अधिक है. ऐसे में अब उसे जीएसटी में रजिस्ट्रेशन कराना होगा. साथ ही बीते एक साल के कारोबार पर टैक्स भी चुकाना होगा.

Top Stories