Saturday , December 16 2017

कतिथ राष्ट्रवादीयों ने राष्ट्रगान के वक़्त खड़ा न होने पर दो लड़कियों समेत तीन को पीटा

राष्ट्रगान को ले कर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यह साफ़ हो गया था कि देश में इसका दुरूपयोग किया जायेगा और कतिथ राष्ट्रवादी लोग इसे अपनी नफ़रत फैलाने की राजनीति के लिए हथियार के रूप में इस्तेमाल करेंगे। जिस बात की आशंका लोगो थी ठीक ऐसी ही घटना पेश आई है। चेन्नई शहर के एक थिएटर में रविवार शाम उस समय महौल गर्मा गया जब राष्ट्रगान के अपमान के आरोप में एक युवक और दो लड़कियों के साथ मारपीट की गई। जानकारी के मुताबिक, रविवार को ‘चेन्नई 28-II’ फिल्म से पहले चलाए गए राष्ट्रगान के समय कुछ लोग सम्मान में खड़े नहीं हुए थे।

इसके बाद दो गुटों में बहस शुरू हो गई और मारपीट होने लगी। इसमें 20 लोगों के एक ग्रुप ने दो लड़कियों और एक युवक को बुरी तरह पीट दिया। चेन्नई के अशोक नगर स्थित काशी थिएटर में यह लोग शो देखने गए थे और मारपीट इंटरवल के दौरान हुई। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि राष्ट्रगान के दौरान ऐसे नौ लोग थे जो खड़े नहीं हुए थे।

जानकारी के मुताबिक, एक फ्रीलांस मूवी रिव्यू करने वाले विजी फिल्म देखने गए थे, लेकिन वह राष्ट्रगान के दौरान खड़े नहीं हुए। इंटरवल में विजयकुमार नाम के व्यक्ति ने विजी का गिरेबान पकड़ के पूछा कि वह क्यों खड़ा नहीं हुआ था। इसके बाद बहस हुई जो मारपीट में बदल गई।

20 लोगों के एक ग्रुप ने विजी और दो अन्य महिलाओं सबरीता और शरीला की पिटाई की। कानून की पढ़ाई कर रहीं शरीला ने कहा, “हमें प्रताड़ित किया गया और मारपीट की गई। उन्होंने हमें जान से मारने की घमकी भी दी। हमारे उद्देश्य राष्ट्रगान का अपमान करना नहीं था।” वहीं, सिविल सर्विस की तैयारी कर रहे विजयकुमार ने कहा, “जब राष्ट्रगान बजाया जा रहा था तब वो लोग सेल्फी ले रहे थे। इस बात का बुरा सिर्फ मुझे ही नहीं, दूसरे कई लोगों को लगा।”

आपको बता दूँ पिछले महीने की 30 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रगान पर अहम आदेश दिया था। आदेश में कहा गया था कि सभी सिनेमा घरों में फिल्म के शुरू होने से पहले राष्ट्रगान चलवाना होगा। इसके अलावा राष्ट्रगान के वक्त स्क्रीन पर तिरंगा भी दिखाना होगा। इसके अलावा कोर्ट ने कहा था कि हॉल में मौजूद दर्शकों को इस दौरान खड़ा होना भी अनिवार्य है।

TOPPOPULARRECENT