Monday , January 22 2018

कमजोर कांग्रेस के सहयोगी राजनीति ही एकमात्र रास्ता “पवार”

नई दिल्ली: कांग्रेस यूपीए के शासनकाल के बाद से अब तक कमजोर हो गई है और उसके पास भाजपा की उपलब्धियों का सिलसिला रोकने क्षेत्रीय दलों से गठबंधन करने के अलावा कोई रास्ता नहीं रह गया है। एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने यह बात बताई। उन्होंने अपनी पुस्तक ” अपनी शर्तों पर। जमीनी हकीकत से सत्ता के गलियारों तक ” यह रिमार्क किया है।

यह पुस्तक कई विपक्षी नेताओं सहित कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद की मौजूदगी में जारी किया गया है। किताब में कहा गया है कि मौजूदा राजनीतिक दृश्य को देखते हुए यह कांग्रेस के लिए बहुत कठिन दिख रहा है कि वे राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा वैकल्पिक के रूप में उभर सके।

उन्होंने हालांकि कहा कि इस तरह का गठबंधन अगर किया जाता है तब भी कांग्रेस अपनी सहयोगी दलों में यह विश्वास पैदा करने की जरूरत है गठबंधन इस तरह चलाया जाएगा जिस तरह पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने राजग सरकार चलाई थी। उन्होंने कहा कि मनमोहन सिंह ने भी दस साल तक ऐसी क्षमताओं का प्रदर्शन किया था लेकिन हमें यह फ़्रामश नहीं करना चाहिए कि कांग्रेस अब यूपीए दौर की कांग्रेस से कमज़ोर है । इस पुस्तक में हालांकि पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद स्थिति का कोई उल्लेख नहीं किया गया है।

TOPPOPULARRECENT