Sunday , December 17 2017

कमाल मौला मस्जिद में मुस्लमानों ने नमाज़ अदा की

धार ( मध्य प्रदेश ) 16 फरव‌री : मस्जिद कमाल मौला में आज मुस्लमानों ने नमाज़ जुमा अदा की । ताहम पुलिस को वहां संगबारी करने वाले एहितजाजियों को मुंतशिर करने के लिए पहले लाठी चार्च करना पड़ा और फिर आँसू गैस के शेलस बरसाए । मस्जिद कमाल मौला के अहाता में एक मंदिर वाके होने का हिन्दू तनज़ीमों की जानिब से इद्दिआ किया जाता है ।

कुछ पुलिस अहलकार और कुछ ज़राए इबलाग़ की गाड़ियों को संगबारी में नुक़्सान पहूँचा है । सरकारी ज़राए ने ये बात बताई । भोज शाला कामपलेक्स में कमाल मौला मस्जिद के अलावा सरस्वती मंदिर होने का इद्दिआ किया जा रहा है और ये महकमा आसार क़दीमा के तहत आने वाली इमारत है ।

यहां मुख़्तलिफ़ मौक़ों पर दोनों ही फ़रीक़ों को इबादत का मौक़ा दिया जाता है । महकमा आसार क़दीमा की जानिब से हिन्दुऔं को 15 फ‌रव‌री को बसंत पंचमी के मौके पर दोपहर 12 बजे से 3.30 बजे के दरमियानी वक़फ़ा के सिवा सारा दिन पूजा का मौक़ा दिया गया जबकि मुस्लमानों को जुमा की नमाज़ अदा करने की इजाज़त दी गई ।

ज़ाफ़रानी तनज़ीमों से ताल्लुक़ रखने वाले सैंकड़ों कारकुन वहां मुस्लमानों को नमाज़ जुमा की इजाज़त दिए जाने के ख़िलाफ़ एहतिजाज करते हुए जमा होगए । इन एहितजाजियों की जानिब से महकमा आसार क़दीमा के फैसले के ख़िलाफ़ नारा बाज़ी की गई और संगबारी की गई ।

इन का कहना था कि चूँकि आज बसंत पंचमी है इस लिए उन्हें सारा दिन पूजा की इजाज़त दी जानी चाहिए और मुस्लमानों को नमाज़ की इजाज़त नहीं दीजानी चाहिए । आज सुबह का आग़ाज़ ही कशीदगी के साथ हुआ क्यो कि भोज उत्सव समीति ने इब्तिदा-ए-में भोज शाला में दाख़िला से इनकार करदिया और कहा कि यहां बहुत ज़्यादा पुलिस फ़ोर्स मुतय्यन करदी गई है ।

इस समीति की जानिब से उत्सव का एहतिमाम किया जाता है । समीति के कुछ अरकान ताहम बाद में अंदर जाने को तय्यार होगए और वहां उन्होंने दुर्गा का पोर्ट्रेट नसब करते हुए पूजा की । कुछ मुक़ामी अफ़राद भी वहां जमा होगए थे । इस दौरान ज़ाफ़रानी वर्कर्स की जानिब मुस्लमानों को नमाज़ की इजाज़त दिए जाने के ख़िलाफ़ एहतिजाज का सिलसिला जारी रहा ।

हालात दोपहर में उस वक़्त कशीदा होगए जब पुलिस ने हिन्दुअओ को अहाता ख़ाली करदेने का हुक्म दिया ताहम उन्होंने एसा करने से इनकार करदिया । कुछ नामालूम अफ़राद की जानिब से संगबारी करदी गई जिस के नतीजा में पुलिस के अहलकार ज़ख़मी होगए और मीडिया की गाड़ियों को नुक़्सान पहूँचा ।

पुलिस की जानिब से एहितजाजियों पर लाठी चार्च किया गया और फिर आँसू गैस के शेलस बरसाए गए । इन्सपैक्टर जनरल अनुराधा शंकर ने अख़बारी नुमाइंदों से बात चीत करते हुए कहा कि जुमला 16 अफ़राद ने वहां नमाज़ जुमा अदा की । उन्होंने यहां पेश आए संगबारी के वाक़िये को मामूली क़रार दिया और कहा कि सूरत-ए-हाल को फ़ौरी तौर पर क़ाबू में करलिया गया है ।

यहां जो क़ायदा है इस के तेहत हर मंगल को हिन्दुअओ को पूजा की इजाज़त दी जाती है जबकि मुस्लमान हर जुमा को नमाज़ अदा करते हैं। इस साल चूँकि बसंत पंचमी जुमा ही को आई थी इस लिए हालात बिगड़ गए और हिन्दुअओ ने सारा दिन पूजा करने की इजाज़त तलब की थी जैसा हमेशा किया जाता है ।

हुकूमत ने ताहम मुस्लमानों को यहां नमाज़ जुमा की इजाज़त देदी । इस से क़बल रियासती हुकूमत ने अदालत में एक हलफनामा दाख़िल करते हुए ये तीक़न दिया था कि यहां हालात को बिगड़ने का मौक़ा फ़राहम नहीं किया जाएगा और सख़्त इंतिज़ामात किए जाएंगे । हाइकोर्ट ने हुकूमत से इस्तिफ़सार किया था कि इसने हालात को बिगड़ने से बचाने के लिए किया इंतिज़ामात किए हैं।

TOPPOPULARRECENT