Sunday , December 17 2017

कर्नाटक में बी जे पी की हार‌ , सेकूलर इक़दार से दूर‌

हैदराबाद 10 मई : ( प्रेस नोट ) तंज़ीम इंसाफ़ ने कर्नाटक में बी जे पी की हार‌ की वजह सैकूलर इक़दार से दसतबरदारी हिंदू कार्ड खेलने की हिक्मत-ए-अमली क़रार दिया।

हैदराबाद 10 मई : ( प्रेस नोट ) तंज़ीम इंसाफ़ ने कर्नाटक में बी जे पी की हार‌ की वजह सैकूलर इक़दार से दसतबरदारी हिंदू कार्ड खेलने की हिक्मत-ए-अमली क़रार दिया।

तंज़ीम इंसाफ़ के सीनयर लीडर‌ जनाब सय्यद अली अलाउद्दीन अहमद असद जनाब मीर मक़सूद अली और जनाब सय्यद हमीद अलुद्दीन ने कहा कि कर्नाटक इंतिख़ाब के नताइज अक़लियतों बिलख़सूस मुस्लमानों के लिये भी मायूसकुन हैं क्यों कि 224 अरकान के ऐवान में सिर्फ़ ग्यारह उम्मीदवारों की कामयाबी 2.4 फ़ीसद पर ही रहा है।

इससे कर्नाटक में मुस्लमानों का ग्राफ़ नीचे आगया है। जिस का जायज़ा लेते हुए सियासी एतबार से मुस्लमानों की नुमाइंदगी में इज़ाफ़ा के लिये हिक्मत-ए-अमली तय्यार की जानी चाहिए। तंज़ीम इंसाफ़ के क़ाइदीन ने मुस्लिम उल्मा , दानिश्वरों , अकाबरीन, सहाफियों से ख़ाहिश की कि वो दीगर रियासतों में होने वाले इंतिख़ाब से पहले अपनी हिक्मत-ए-अमली वाजह‌ करें जिससे मुस्लमानों की ऐवानों में नुमाइंदगी बा एतिबार आबादी वाज़ह हो सके।

तब ही मुस्लमानों की सियासी सूझबूझ ज़ाहिर होगी और तालीमी मआशी समाजी पसमांदगी (पिछड़ेपन)को दूर करने की कोशिश कामयाब हो सकती है क्यों कि जमहूरी निज़ाम में सियासी एतबार से मौक़िफ़ मजबूत‌ करना लाज़िम है।

TOPPOPULARRECENT