Monday , January 22 2018

कर्नाटक में शादी भाग्य स्कीम का आग़ाज़

हुकूमत कर्नाटक की मक़बूल आम शादी भाग्य स्कीम जिस के तहत अक़लियती तबक़ा की ग़रीब लड़कीयों की शादीयों के लिए हुकूमत की तरफ से 50 हज़ार रोपीये की माली इमदाद फ़राहम की जाती है के सिलसिले में रियासती वज़ीर बलदी नज़म-ओ-नसक़ ,औक़ाफ़,अक़लियती बहबू

हुकूमत कर्नाटक की मक़बूल आम शादी भाग्य स्कीम जिस के तहत अक़लियती तबक़ा की ग़रीब लड़कीयों की शादीयों के लिए हुकूमत की तरफ से 50 हज़ार रोपीये की माली इमदाद फ़राहम की जाती है के सिलसिले में रियासती वज़ीर बलदी नज़म-ओ-नसक़ ,औक़ाफ़,अक़लियती बहबूद-ओ-ज़िला इंचार्ज वज़ीर और सदर हैदराबाद कर्नाटक रीजनल डेवलपमेंट बोर्ड डॉ. क़मर उल-इस्लाम ने अपने दफ़्तर वाक़्ये मनी विधान सुविधा में ये रुकमी चैक मुस्तहक़्क़ीन में तक़सीम किए।

जुमला 44 लड़कीयों को फी कस 50,000 रूपियों की रक़म पर मुश्तमिल चैक पेश कियागया। डॉ. क़मर उल-इस्लाम ने इस मौके पर नेक तवक़्क़ुआत का इज़हार किया कि इस रक़म से उन ग़रीब मुस्तहिक़ लड़कीयों की ज़िंदगी संवर जाएगी और वो अपने अपने घरों की होजाएंगी और ख़ुश-ओ-ख़ुर्रम ज़िंदगी गुज़ारेंगी।

उन्होंने कहा कि एसे कई ख़ानदान हैं जहां लड़कीयां महिज़ ग़ुर्बत की वजह से शादियां ना होने के सबब अपने घरों में बैठ रहती हीं ओर उनकी शादीयों की उम्र गुज़र जाती है।

उन्होंने कहा कि वज़ीर-ए-आला ने कर्नाटक में अक़लियतों की ग़रीब लड़कीयों के शादी भाग्य स्कीम को शुरू करते हुए कर्नाटक बल्कि मुल्क की तारीख़ में पहली मर्तबा इस अनोखी स्कीम को शुरू किया है जिस की नज़ीर नहीं मिलती।

डॉ.क़मर उल-इस्लाम ने कहा कि चूँकि शादी भाग्य स्कीम के ताल्लुक़ से अवाम में अभी बेदारी पैदा नहीं हुई है इसी लिए इन ग़रीबों को तक़ारीब मुनाक़िद करते हुए चेक्स पेश किए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि आइन्दा एसा इक़दाम करने पर हुकूमत ग़ौर कर रही है जिस के तहत ग़रीब मुस्तहिक़ ग़रीब अक़लियती लड़कीयों की शादी के लिए ये रुकमी चेक्स उन के अपने घरों के पत्तों पर पहुंचाए जाऐंगे।

TOPPOPULARRECENT