कल्बे जव्वाद का विवादित बयान, ‘मॉब लिंचिंग से बचने के लिए हथियार उठाने से ना हिचकें’

कल्बे जव्वाद का विवादित बयान, ‘मॉब लिंचिंग से बचने के लिए हथियार उठाने से ना हिचकें’

शिया धर्मगुरु कल्बे जव्वाद (Kalbe jawad) का मॉब लिंचिंग (Mob lynching) पर भड़काऊ बयान आया है. मौलाना कल्बे जव्वाद (Kalbe jawad) ने आत्मरक्षा के नाम पर लोगों को हथियार खरीदने की नसीहत दी है. उन्होंने कहा कि मॉब लिंचिंग मुसलमानों के एनकाउंटर का नया रूप है. 26 जुलाई को मॉब लिंचिंग से आत्मरक्षा के नाम पर लखनऊ में ट्रेनिंग आयोजित करने की घोषणा की है. जव्वाद ने कहा है कि 26 जुलाई को क़ानूनी तौर पर हथियारों रखने की ट्रेनिंग के लिए कैंप का आयोजन किया जाएगा.

मॉब लिंचिंग यानी भीड़ तंत्र का कानून, जिसके बारे में सोचकर ही दिल कांप उठता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मॉब लिंचिंग के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की हिदायत देते रहे हैं. उत्तर प्रदेश समेत कई राज्य मॉब लिंचिंग के खिलाफ कड़े कानून भी लाने पर विचार कर रहे हैं, लेकिन कानून से अलग जाकर हथियारों से मॉब लिंचिंग का मुकाबला करने के लिए लोगों को सरेआम भड़काने की कोशिश की जा रही है. वह भी संविधान में मिले अधिकारों की दुहाई देकर.

`मॉब लिंचिंग` से बचाएगा `हथियार`?
मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर रोक लगाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक का सख्त निर्देश है, बावजूद इसके एक-दो घटनाएं समाज को परेशान करती हैं. जब इन घटनाओं को मुद्दा बनाकर सियासत की जाए, तो वे ज्यादा परेशानी का सबब बन सकती हैं.

Top Stories