कल झारखंड बंद, आज निकलेगा मशाल जुलूस

कल झारखंड बंद, आज निकलेगा मशाल जुलूस
मुक़ामी पॉलिसी की मांग को लेकर 25 अक्तूबर के बंद को कामियाब बनाने के लिए कई झारखंडी और असल बासिन्दे तंज़िम सड़कों पर उतरेंगे। बंद से पहले 24 अक्तूबर की शाम मशाल जुलूस भी निकाला जायेगा। डॉक्टर खिदमात बंद से आज़ाद रखा गया है। बुध को यह जान

मुक़ामी पॉलिसी की मांग को लेकर 25 अक्तूबर के बंद को कामियाब बनाने के लिए कई झारखंडी और असल बासिन्दे तंज़िम सड़कों पर उतरेंगे। बंद से पहले 24 अक्तूबर की शाम मशाल जुलूस भी निकाला जायेगा। डॉक्टर खिदमात बंद से आज़ाद रखा गया है। बुध को यह जानकारी ऑल इंडिया सरना मजहबी और समाजी समन्वय समिति की प्रेस कोन्फ्रेंस में डॉ करमा उरांव समेत दीगर ने दी।

कहा गया कि रियासत में 13 साल में अपनी मुक़ामी पॉलिसी नहीं बन सकी। झारखंडियों को आलात मुअदानियात का भी पट्टा नहीं मिल रहा। बसंत सोरेन अपने बड़े भाई हेमंत सोरेन के वज़ीरे आला ओहदे का असर दिखा कर रियासत के बालू घाटों की नीलामी का पट्टा मुंबई की कंपनी को दे रहे हैं। कमेटी की तरफ से कहा गया कि झारखंड मुकाममिल मूअदनि समानुदान तरमीम दस्तूरूल अमल 2010 के कवानीन 12(2) रियायत के तहत बालू घाटों की बंदोबस्ती मुअदनी ईमदाद बाहमी तावून कमेटियों को मिलनी चाहिए थी, पर ऐसा नहीं हुआ। प्रेस कोन्फ्रेंस में बंधन तिग्गा, राजकुमार पाहन, प्रेमशाही मुंडा, प्रो सतीश भगत, अभय भुटकुंवर, एस अली मौजूद थे।

इन तंज़िमों ने हिमायत किया : ऑल इंडिया सरना मजहबी और समाजी हम अहंगी कमेटी, आदिवासी तालिबे इल्म यूनियन, आदिवासी आवामी कोनसिल, झारखंड रियासत दानिश्वर प्लेटफोरम, मुत्तेहदा मुसलिम समाज, ऑल मुसलिम यूथ एसोसिएशन, झारखंड दिशोम पार्टी, आदिवासी असल रिहायसी तालिबे इल्म मोरचा, आदिवासी लोहरा समाज, राजी पड़हा सरना प्रार्थना सभा, सीपीआइएमएल लिबरेशन।

Top Stories