Saturday , December 16 2017

कल से संसद का शीतकालीन सत्र शुरु, नोट बैन पर हंगामे के आसार

नयी दिल्ली। संसद का शीतकालीन सत्र कल 16 नवंबर से शुरू हो रहा है। नोटबंदी का मामला देश में गरमाया हुआ है, इसलिए इसका असर संसद पर भी देखने को मिलेगा। आज सरकार ने शाम चार बजे सर्वदलीय बैठक बुलायी है। इस बैठक में शीतकालीन सत्र को लेकर बातचीत की जायेगी, सरकार सभी दलों से सत्र को सफल बनाने के लिए सहयोग मांगेगी।

सर्वदलीय बैठक से पहले आज कांग्रेस पार्टी ने अपनी रणनीति तय करने के लिए बैठक की। इस बैठक में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मौजूद थे। नोटबंदी को लेकर विपक्ष सरकार पर हमला बोलेगा यह बात तो तय है। इसके संकेत जदयू नेता शरद यादव ने दे दिये हैं। उन्होंने अनियोजित विमुद्रीकरण पर चर्चा के लिए राज्यसभा के सभी सूचीबद्ध कार्यों को निलंबित कर नोटबंदी पर चर्चा के लिए नोटिस दिया है।

कल शाम रणनीति तय करने के लिए भाजपा संसदीय दल की बैठक हुई थी और एनडीए की भी बैठक हुई थी। वहीं नोटबंदी के मुद्दे पर संसद के शीतकालीन सत्र में सरकार को घेरने की संयुक्त रणनीति को अंतिम रूप देने के लिए कांग्रेस, चिर प्रतिद्वंदी तृणमूल कांग्रेस और माकपा सहित अन्य विपक्षी पार्टियों ने भी कल बैठक की। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार का फैसला पूर्व निर्धारित घोटाला है, जिसे पहले ही सत्तारुढ़ भाजपा को लीक कर दिया गया था।

संसद में सरकार को घेरने के तरीकों पर चर्चा करने के लिए राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद के संसद भवन स्थित कमरे में यह बैठक हुई। इसमें तृणमूल कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल (राजद), जनता दल यूनाइटेड (जदयू), भाकपा, माकपा, झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) और वाईएसआर कांग्रेस के नेता शामिल हुए। नेताओं एक साझा रणनीति को अंतिम रूप देने के लिए कल फिर से बैठक करने का फैसला किया।

TOPPOPULARRECENT