Monday , December 18 2017

कश्मीरी पंडितों के लिए अलाहदा कॉलोनियां की तामीर के लिए पेशरफ़त

श्रीनगर अलहेदगी पसंदों की धमकीयां मुस्तरद। मर्कज़ी मुमलिकती वज़ीर-ए-दाख़िला का बयान

श्रीनगर

अलहेदगी पसंदों की धमकीयां मुस्तरद। मर्कज़ी मुमलिकती वज़ीर-ए-दाख़िला का बयान

मर्कज़ ने आज कहा है कि कश्मीरी पंडितों की वापसी के लिए तरग़ीब देने उनके लिए कॉलोनियां के क़ियाम पर क़तई फ़ैसला नहीं किया गया है। ताहम ये भी दावा किया कि हुकूमत अलहेदगी पसंदों के असर-ओ-रसूख़ को क़बूल नहीं करेगी जो कि पाकिस्तान की हिदायत पर काम करते हैं।

मर्कज़ी मुमलिकती वज़ीर-ए-दाख़िला किरण रिजीजू ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि फ़िलहाल पोलिसी की तफ़सीलात बताने से क़ासिर हूँ क्योंकि उसे हुनूज़ क़तईयत नहीं दी गई है और कश्मीरी पंडितों के साथ मुशावरत का सिलसिला जारी है जबकि रियासती हुकूमत और मर्कज़ी विज़ारत-ए-दाख़िला मिल कर पालिसी को क़तीअत देने में मसरूफ़ हैं।

उन्होंने बताया कि मुझे रियासत और अवाम के मुफ़ाद में दिलचस्पी है और पालिसी साज़ फ़ैसलों को क़तईयत देने के बाद ही तफ़सीलात बताई जाएंगी और इब्तेदाई काम की बुनियाद पर बयान नहीं दिया जा सकता। उन्होंने कहा कि जम्हूरी अमल में जम्मू-ओ-कश्मीर अवाम की पुरजोश शमूलीयत के बाद एक कारकरद और मूसिर जकोमत मुंतख‌ब की गई है।

रियासत और मर्कज़ के दरमियान मुशावरत के ज़रिए कार्रवाई शुरू करदी गई है। कश्मीरी पंडितों के लिए अलहदा कॉलोनियां के क़ियाम की तजवीज़ के ख़िलाफ़ कल अलहेदगी पसंदों के बंद की अपील पर मर्कज़ी वज़ीर ने कहा कि रियासत में बाज़ अनासिर हैं जोकि मुल्क के लिए मसाइल पैदा कररहे हैं।

ताहम मेरी अवाम से गुज़ारिश है कि बाहम मुत्तहदा वजहएं और उन अनासिर से मुतास्सिर ना हूँ जो कि मुल्क और समाज के लिए मसाइल पैदा करना चाहते हैं। वाज़िह रहे कि जम्मू-ओ-कश्मीर में हलीफ़ जमातों पीपल्ज़ डैमोक्रेटिक पार्टी और बी जे पी वादी में कश्मीरी पंडितों के लिए मुशतर्का टाऊन शिप्स की तामीर पर मुतज़ाद बयानात दे रहे हैं। चीफ़ मिनिस्टर मुफ़्ती मुहम्मद सईद का कहना है कि बे आसरा कम्यूनिटी के लिए अलाहदा कॉलोनियां तामीर नहीं की जाएंगी जबकि मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला राजनाथ सिंह ने ये वज़ाहत की है कि मर्कज़ के नुक़्ता-ए-नज़र में कोई तबदीली नहीं आएगी|

TOPPOPULARRECENT