Saturday , May 26 2018

कश्मीरी क़ाइदीन की सरताज अज़ीज़ से मुलाक़ात : वी एच पी

विश्वा हिंदू परिषद ने आज यू पी ए हुकूमत को हदफ़ तन्क़ीद बनाते हुए कहा कि कश्मीरी अलाह‌दगी पसंदों को पाकिस्तानी वज़ीर-ए-आज़म के मुशीर सरताज अज़ीज़ से मुलाक़ात करने की इजाज़त दे कर मुल्क के वक़ार को मजरूह किया है।

विश्वा हिंदू परिषद ने आज यू पी ए हुकूमत को हदफ़ तन्क़ीद बनाते हुए कहा कि कश्मीरी अलाह‌दगी पसंदों को पाकिस्तानी वज़ीर-ए-आज़म के मुशीर सरताज अज़ीज़ से मुलाक़ात करने की इजाज़त दे कर मुल्क के वक़ार को मजरूह किया है।

वी एचपी के जम्मू-ओ-कश्मीर रियासती यूनिट सदर राम कांत दूबे ने कहा कि कांग्रेस की क़ियादत वाली यू पी ए हुकूमत ने नई दिल्ली में कश्मीरी अलाहदगी पसंद क़ाइदीन को पाकिस्तानी नुमाइंदा से मुलाक़ात की इजाज़त मुल्क के वक़ार को कम कर दिया है।

उन्होंने सवाल किया कि आख़िर कश्मीर के अलाहदगी पसंद क़ाइदीन मीर वाइज़ फ़ारूक़, यासीन मलिक, सय्यद अली शाह गिलानी और आसीया अंद रब्बी को किसी हैसियत से नई दिल्ली में वाके पाकिस्तानी सिफ़ारतख़ाने का दौरा करते हुए सरताज अज़ीज़ (पाकिस्तानी वज़ीर-ए-आज़म नवाज़ शरीफ़ के दिफ़ाई और ख़ारिजी मुशीर) से मुलाक़ात की इजाज़त दी गई।

अख़बारी नुमाइंदों से बात करते हुए दूबे ने कहा कि ये बात हैरतनाक है कि किसी ग़ैर मुल्क का एक नुमाइंदा ख़ुद हमारे मुल्क में एक इजलास का इनइक़ाद करते हुए कश्मीर के मुआमला पर तबादला-ए-ख़्याल करता है। ये किसी तौहीन से कम नहीं जो कोई भी मुल्क बर्दाश्त नहीं करसकता इस के बावजूद भी हम पाकिस्तान के साथ अमन मुज़ाकरात करते हैं। मर्कज़ी हुकूमत इस बात को यक़ीनी बनाए कि इस नौईयत के वाक़ियात का आइंदा ना हो।

TOPPOPULARRECENT