Tuesday , December 12 2017

कश्मीर की ऐतिहासिक जामा मस्जिद में कर्फ्यू की बर्खास्तगी के बावजूद शुक्रवार की नमाज नहीं हुई

श्रीनगर: कश्मीर घाटी की सबसे बड़ी ‘ऐतिहासिक व केंद्र जामा मस्जिद श्रीनगर’ में लगातार सत्रहवीं शुक्रवार को नमाज़ पढने की अनुमति नहीं दी गई, कश्मीर प्रशासन ने पिछले 4 महीने पहली बार श्रीनगर के पाईन शहर में शुक्रवार के अवसर पर कर्फ्यू नहीं किया, हालांकि मुसलमानो ने कश्मीर की इस बड़ी मस्जिद पर‌ सख्त घेरा जारी रखा गया जिससे इसमें लगातार सत्रहवीं शुक्रवार को भी नमाज़ पढना संभव नहीं हो सका.मोरीन के अनुसार 1842 के बाद से ऐसा पहली बार हुआ है कि जब किसी सरकार ने श्रीनगर की ऐतिहासिक जामा मस्जिद को लगातार चार महीने तक बंद रखा। सुरक्षा बलों ने ऐतिहासिक जामा मस्जिद में नमाज़ लगातार 17 वीं शुक्रवार को असंभव बनाने के लिए न केवल उसे सख्त घेराबंदी में ले लिया था बल्कि हुर्रियत कांफ्रेंस (अ) अध्यक्ष मीरवाइज़ उमर फ़ारूक़ नागरिक नजरबंदी में अधिक सख्ती बरतते हुए उन्हें जामा मस्जिद जाने की अनुमति नहीं दी गई.सिक्योरिटी बलों ने जामा मस्जिद की ओर जाने वाली कई सड़कों की कांटेदार तार से नाकाबंदी की।

हालांकि आधिकारिक तौर पर घाटी में शुक्रवार को कर्फ्यू केवल सियोल लाइनों के बतह मालो में रहा, लेकिन अलगाववादी नेतृत्व की अपील पर हड़ताल के कारण जनजीवन लगातार 119 वें दिन भी रुका रहा पुलिस ने बताया कि बतह मालो को छोड़कर घाटी के किसी भी दूसरे हिस्से में कर्फ्यू नहीं किया गया है, लेकिन शांति और व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए सुरक्षा बलों की तैनाती जारी रखी गई है। हालांकि पुलिस दावे के विपरीत कई एक क्षेत्रों सहित सियोल लाइनों की स्थिति बिल्कुल अलग नजर आई जिनमें सुरक्षा बलों ने लोगों की नकल हरकत को रोकने के लिए सड़कों को कांटेदार तार से बंद कर दिया था।

8 जुलाई को हिज्बुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहान वाणी की मौत के बाद यह पहला मौका है कि जब कश्मीर प्रशासन ने पाईन शहर में अलानिया कर्फ्यू नहीं किया। घाटी में 9 जुलाई से जारी हड़ताल और स्वतंत्रता समर्थक कार्यक्रमों का नेतृत्व कर रहे अलगाववादी नेताओं सैयद अली गिलानी, मीरवाइज़ उमर फ़ारूक़ और मोहम्मद यासीन ने जारी हड़ताल में 10 नवंबर तक विस्तार की घोषणा की है। अलगाववादी नेताओं ने कश्मीरी जनता को अपने संबंधित जिले तक मार्च करने के लिए कहा था। पाईन शहर के अन्य क्षेत्रों में भी विरोध प्रदर्शनों को रोकने के लिए सैकड़ों की संख्या में सुरक्षा बल और राज्य पुलिस के अधिकारी तैनात रखे गए थे। नाला मार रोड़ का एक हिस्सा कई एक स्थानों पर कांटेदार तार से बंद कर दिया गया था.ताहम पाईन शहर के जिन क्षेत्रों को प्रतिबंध से मुक्त रखा गया था, में इक्का दुक्का वाहन सड़कों पर चलती हुई नजर आईं। पाईन शहर में व्यावसायिक गतिविधियां 9 जुलाई से बदस्तूर रुक पड़ी हुई हैं, जबकि सरकारी कार्यालयों और बैंकों में सामान्य कामकाज प्रभावित पड़ा हुआ है।

उधर सियोल लाइनों में सुरक्षा बलों ने ऐतिहासिक लाल चौक की ओर जाने वाली सभी सड़कों को बंद कर दिया था। झेलम नदी पर बने अमीर कदल ब्रिज जो हरि सिंह हाई स्ट्रीट ऐतिहासिक लाल चौक से जोड़ता है, एक बार फिर बंद कर दिया गया था.सरी नगर सिविल सचिवालय से कुछ सौ मीटर की दूरी पर कर्फ्यू लागू किया गया था.बालाई शहर में भी शांति और व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए सुरक्षा बलों की अतिरिक्त टुकड़ियाँ तैनात रखी गई है.श्माली कश्मीर के अन्य भागों सहित कुपवाड़ा, हिन्दवाड़ह, बांड पुरा, आज‌स, पट्टन और पुल हालन में भी पूर्ण हड़ताल रही । दक्षिण कश्मीर के जिलों अनंतनाग, कुलगाम, पुलवामा और शोपियां से मिली जानकारी के अनुसार इन जिलों में आज लगातार 119 वें दिन भी पूर्ण हड़ताल रही।

TOPPOPULARRECENT