Tuesday , August 21 2018

कश्मीर की वादी में फिर लहराए गए आईएसआईएस के परचम

सेक्युरिटी एजेंसियों की ओर से मुल्क के कई शहरों में दहशतगर्दाना हमलों के खतरे के इंतेबाह के अगले ही दिन एक बार फिर श्रीनगर में आईएसआईएस के परचम लहराए गए| ज़राये ने बताया कि जामिया मस्जिद इलाके में जुमे की नमाज के बाद एक मुज़ाहिरा के

सेक्युरिटी एजेंसियों की ओर से मुल्क के कई शहरों में दहशतगर्दाना हमलों के खतरे के इंतेबाह के अगले ही दिन एक बार फिर श्रीनगर में आईएसआईएस के परचम लहराए गए| ज़राये ने बताया कि जामिया मस्जिद इलाके में जुमे की नमाज के बाद एक मुज़ाहिरा के दौरान कुछ नकाबपोश नौजवानो के हाथों में आईएसआईएस तंज़ीम के परचम (झंडे) देखे गए| इससे पहले कि पुलिस हरकत में आती झंडे लहराने वाले नकाबपोश नौजवान गायब हो गए|

इस वाकिया से सेक्युरिटी एजेंसियां सकते में हैं| पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है| कश्मीर वादी में इससे पहले भी दो बार इसी साल आईएसआईएस हामी खुलेआम परचम लहरा चुके हैं|

तीन दिन पहले वज़ीर ए आला उमर अब्दुल्ला ने नई दिल्ली में दावा किया था कि कश्मीर में आईएस का कोई वज़ूद नहीं है| कुछ नासमझ नौजवानो की तरफ से परचम लहराने का यह मतलब नहीं कि वादी में भी यह तंज़ीम अपने पांव पसार चुका है|

वज़ीर ए आला के बयान के अगले ही दिन कश्मीर की सेक्युरिटी का जिम्मा संभालने वाली फौज की 15 कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल सुब्रत कुमार साहा ने यहां आईएस के परचम लहराने को संगीन मामला बताया था| ज़राये के मुताबिक , पुलिस व दिगर सेक्युरिटी एजेंसियों को पहले ही इत्तेला मिल चुकी थी कि आईएस के नौजवान हामियों की टीम जुमे के रोज़ नमाज-ए-जुमा के बाद अपनी हाज़िरी का अहसास कराने के लिए नारेबाजी करते हुए जरूर निकलेगा|

इन नौजवानों को पकड़ने के लिए पुलिस ने जुमेरात के रोज़ ही तैयारी करते हुए डाउन-टाउन के मुख्तलिफ इलाकों में खासतौर पर जामिया मस्जिद के आसपास नाके लगा लिए थे| सीसीटीवी कैमरे भी पूरी तरह चालू थे और सादी वर्दी में पुलिसअहलकार भी तैनात थे| जामिया मस्जिद में जैसे ही जुमे की नमाज खत्म हुई और वहां जुलूस निकला तो दो नकाबपोश नौजवान आईएस के परचम लेकर निकल आए| उन्होंने झंडे को लहराया, इस्लामिक नारेबाजी की और फिर अचानक गायब हो गए|

इससे पहले भी कश्मीर में जून के आखिर में और 11 जुलाई को जामिया मस्जिद के बाहर आईएस हामियों ने परचम लहराते हुए शिया फिर्के के खिलाफ नारेबाजी की थी| शुरू में सेक्युरिटी एजेंसियों ने इस मामले को नजर अंदाज किया, लेकिन जवाहर नगर इलाके के एक नौजवान के आस्ट्रेलिया जाकर आईएस में शामिल होकर इराक पहुंच जाने की खबरों के बाद तकरीबन 50 मुश्तबा नौजवानो की फहरिस्त तैयार की गई| एक दर्जी को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया, जिसने मुबय्यना तौर पर आईएस का परचम सिला था|

TOPPOPULARRECENT