Friday , December 15 2017

कश्मीर के ताज वादी गुरेज़ में दो रोज़ा सयाहती फेस्टिवल

जम्मू-ओ-कश्मीर के रियास्ती वज़ीर जी अमीर ने आज एक इंतिहाई अहम बयान देते हुए कहा कि जम्मू-ओ-कश्मीर पर आलमी सतह पर अब सय्याहों की नज़रें लगी हुई हैं।

जम्मू-ओ-कश्मीर के रियास्ती वज़ीर जी अमीर ने आज एक इंतिहाई अहम बयान देते हुए कहा कि जम्मू-ओ-कश्मीर पर आलमी सतह पर अब सय्याहों की नज़रें लगी हुई हैं।

वैसे भी ये एक ऐसी रियासत है जिस के बारे में दावे से कहा जा सकता है कि दुनिया के हर मुल्क के सय्याह ने यहां की सयाहत ज़रूर की होगी। अस्करियत पसंद सरगर्मियों में इज़ाफ़ा के बाद इस रियासत को ना जाने किसकी नज़र लग गई कि यहां सय्याहों ने आना बिल्कुल तर्क कर दिया।

अब हालात एक बार फिर मामूल पर आरहे हैं और अगर योरोपी तर्ज़ पर जम्मू-ओ-कश्मीर में सयाहत के शोबा को फ़रोग़ दिया जाय तो रियासत एक बार फिर सय्याहों की आम्माजा गाह बन जाएगी। यहां से 123 किलो मीटर के फ़ासले पर वाके बांडी पुर ज़िला के गुरेज़ में दो रोज़ा सयाहती फेस्टिवल का इफ़्तिताह करने के बाद अपने ख़िताब में दो रोज़ा सयाहती फेस्टिवल का शुरूआत‌ करने के बाद अपने ख़िताब के दौरान मीर ने कहा कि सयाहत को फ़रोग़ देने के लिए तमाम दस्तयाब वसाइल का इस्तिमाल किया जाएगा क्योंकि सयाहत ही वो शोबा है जहां से रियासत को काबिल लिहाज़ आमदनी होती है।

दो रोज़ा गुरेज़ फेस्टिवल सय्याहों को राग़िब करने के लिए मनाया जा रहा है ताकि वो इन इलाक़ों की भी सैर करें जहां अब तक कोई नहीं गया।

TOPPOPULARRECENT