कश्मीर के हालात सुधारने में सरकार विफल। मुफ्ती मुकर्रम अहमद

कश्मीर के हालात सुधारने में सरकार विफल। मुफ्ती मुकर्रम अहमद
Click for full image

नई दिल्ली: शाही इमाम मस्जिद फतेहपुर दिल्ली मुफ्ती मोहम्मद मुकर्रम अहमद ने आज शुक्रवार की नमाज से पहले संबोधन में कहा कि इस्लाम धर्म प्रेम और सहिष्णुता, शांति और सुरक्षा का धर्म है इसमें दो राय नहीं हो सकतीं। धर्म इस्लाम लोकप्रियता उसकी अच्छी शिक्षाओं की वजह से ही प्राप्त हुई है और विरोधियों कुछ भी कर लें वह इस्लाम धर्म की लोकप्रियता कम नहीं कर सकते।

आतंकवाद और हिंसा का समर्थन धर्म इस्लाम ने कभी नहीं की और जो लोग ऐसा कर रहे हैं वे सच्चे अनुयायी विश्वास नहीं। 15 अगस्ट स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में मुसलमानों, अल्पसंख्यकों और कश्मीरियों को नजरअंदाज किया इससे हर वर्ग में निराशा पैदा हुई है। अगर देश में शांतिपूर्ण माहौल नहीं है तो यह अच्छा संकेत नहीं है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और बदमाशों विभिन्न संगठनों के बैनर लेकर अशांति का माहौल पैदा कर रहे हैं उस पर सरकार को लगाम बांधनेवाला पदार्थ चाहिए।

एमनेस्टी इंटरनेशनल अपने कार्यालयों कई शहरों में बंद कर चुकी है। गाओ रक्षा-नाम पर अशांति फैलाने वालों पर कानून का कोई प्रभाव नहीं है। कश्मीर के हालात चालीस दिन से बेकाबू हैं लोग इंटरनेट और मोबाइल आदि सेवाएं बंद होने की वजह से अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के हालात की खबर लेने के लिए उत्सुक हैं। कश्मीर घाटी में एसपीओ यानी गोली चलाने के लिए निर्धारित नियमों का उल्लंघन जारी है, सत्तर से अधिक लोग मारे गए हैं।

सैकड़ों अपनी दृष्टि खो चुके हैं। हजारों घायल और परेशान हैं। घाटी के हालात दिन प्रतिदिन बिगड़ रहे हैं सरकार नाकाम दिख रही है। प्रधानमंत्री द्वारा नजरें जमाए कश्मीरी मदद की आस लगाए बैठे हैं तो अविलम्ब कश्मीरियों के दुख दर्द को दूर किया जाए। पश्चिमी दिल्ली के शक्ति विहार मोहन गार्डन नूरानी मस्जिद में ज़ोहर‌ की नमाज के बाद अगर क्षेत्र के मुसलमान धैर्य और संयम का दामन हाथ में न लेते तो हालात और बिगड़ सकते थे जो वहां पर भाजपा और उसकी हमनवा संगठनों के कार्यकर्ताओं मस्जिद के अंदर आकर झगड़े पर उतारू थे और मस्जिद में लाउडस्पीकर के उपयोग को बहाना बनाकर दंगे पर आमादा थे।

मुरादनगर में बाज़ोली मस्जिद में पश्चिम की प्रार्थना के समय सनगबारी से नमाज़ पढ़ते हुए व्यक्ति का घायल होना भी ताजा घटना है। शाही इमाम ने सरकार से मांग की कि किसी भी ज्ञान और स्वार्थों का इंतेजार किए बिना उन शरारती साम्प्रदायिक पर कार्रवाई कर उन्हें जेलों में डाला जाए और सख्त कार्रवाई की जाए चूंकि अब बकरीद में एक महीने भी नहीं है एक सौ पच्चीस करोड़ लोगों की पुकार है शांतिपूर्ण जीवन और सांप्रदायिक सद्भाव का संरक्षण।

हमें उम्मीद है कि अविलंब सरकार वैध मांग को पूरा करेगी और देश में शांति और सुरक्षा बहाल करेगी।

Top Stories