Saturday , December 16 2017

कश्मीर में सैलाब , जहलुम का ख़तरे के निशान से ऊपर बहाव‌

शहर श्रीनगर में आज सैलाब की चौकसी का ऐलान कर दिया गया जबकि दरयाए जहलुम ख़तरे के निशान से ऊपर बहने लगा। मुसलसल बारिश के नतीजे में ये सूरत-ए-हाल पैदा हुई। जुनूबी कश्मीर के अज़ला अनंतनाग और कुलगाम में 23 देहात ज़ेराब आगए। दोनों अज़ला बदतर

शहर श्रीनगर में आज सैलाब की चौकसी का ऐलान कर दिया गया जबकि दरयाए जहलुम ख़तरे के निशान से ऊपर बहने लगा। मुसलसल बारिश के नतीजे में ये सूरत-ए-हाल पैदा हुई। जुनूबी कश्मीर के अज़ला अनंतनाग और कुलगाम में 23 देहात ज़ेराब आगए। दोनों अज़ला बदतरीन मुतास्सिरा अज़ला हैं।

ज़िला बडगाम के इलाक़ा अब्बू रह में दो अफ़राद सैलाबी पानी में बह गए। जुनूबी कश्मीर में सैलाबी पानी में फंसे हुए तकरीबन 100 अफ़राद को महफ़ूज़ मुक़ामात पर मुंतक़िल करदिया गया। शहर श्रीनगर के चंद इलाक़े जो दरयाए दूध गंगा के धारे के करीब वाक़्य हैं ज़ेरे आब आगए जबकि दरिया का पानी किनारों से ऊपर बहने लगा।

हड्डियों के अमराज़ के हॉस्पिटल और बारहमुल्ला के रिहायशी इलाक़े भी ज़ेराब आगए। डिप्टी कमिशनर श्रीनगर फ़ारूक़ अहमद शाह ने कहा कि ज़िला इंतेज़ामीया सैलाब की सूरत-ए-हाल पर 24 घंटे नज़र रखे हुए है और मुतास्सिरा अफ़राद को राहत रसानी जारी है। हड्डियों के अस्पताल के मरीज़ों को इमारत की बालाई मंज़िल में मुंतक़िल करदिया गया है।

महिकमा मौसमियात की पेश क़यासी के बमूजब आइन्दा 48 घंटे इमकान है कि मज़ीद इलाक़े में सैलाब आजाएगा। कॉलेज और स्कूलस बारिश की वजह से आज बंद कर दिए गए। मुक़ामी शहरियों ने जो हुकूमत की इमदाद के मुंतज़िर थे, समझ लिया कि ग़ालिबन इन का इलाक़ा हुकूमत की तरजीह में शामिल नहीं है , इस लिए उन्होंने सैलाब से ख़ुद निमटने का फैसला किया।

चंदा जमा किया और ख़ानगी जैसी डी की मदद हासिल की ताकि किनारों पर सैलाब की सूरत-ए-हाल से निमटा जा सके। चीफ मिनिस्टर ने पुलिस कंट्रोल रुम पर एक आला सतही इजलास में सैलाब की सूरत-ए-हाल का जायज़ा लिया और इंतेज़ामिया को हिदायत दी कि सैलाब ज़दा इलाक़ों में अवाम की ज़िंदगी बचाने केलिए हर मुम्किन कोशिश की जाये।

उन्होंने पुरजोश बारीक बेन और इंतेहाई मूसिर राहत रसानी और बचाव‌ मंसूबा तय्यार करने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया ताकि इंसानी जानों को बचाया जा सके। रियासती वज़ीर सैलाब शाम लाल शर्मा , रियासती वज़ीर अहमद ग्रेज़ी और शहरी इंतेज़ामी-ओ-महिकमा पुलिस के सीनियर ओहदेदारों ने इजलास में शिरकत की।

डीविज़न कमिशनर कश्मीर रोहित कंसल और चीफ इन्जिनियर‌ आबपाशी-ओ-इंसिदाद सैलाब जावेद अहमद ने चीफ मिनिस्टर को बचाव‌ और राहत रसानी मंसूबा की तफ़सीलात से वाक़िफ़ करवाया ताकि मुसलसल बारिश और सैलाब के ख़तरे से निमटा जा सके। डिप्टी कमिशनर श्रीनगर ने कहा कि 50 कश्तियां जुनूबी कश्मीर में श्रीनगर से ज़ेराब इलाक़ों से अवाम का तख़लिया करने के लिए तैनात करदी गई हैं। मज़ीद 100 कश्तियां इसी मक़सद से खरीदी गई हैं। मुख़्तलिफ़ अज़ला के डिप्टी कमिश्नर्स से ख़ाहिश की गई है कि वो अज़ला के सैलाब ज़दा इलाक़ों से अवाम की मुंतक़ली केलिए कश्तियां हासिल करें।

TOPPOPULARRECENT