Saturday , December 16 2017

कश्मीर में हुकूमत का किसी भी वक़्त ज़वाल

जम्मू: जम्मू-कश्मीर में पी डी पी । बी जे पी मख़लूत हुकूमत पर तमाम महाज़ों पर नाकाम होने का इल्ज़ाम आइद करते हुए रियासती कांग्रेस ने कहा कि ये हुकूमत किसी भी वक़्त ज़वाल से दो-चार होसकती है। जम्मू-कश्मीर प्रदेश कांग्रेस कमेटी सदर ग़ुलाम

जम्मू: जम्मू-कश्मीर में पी डी पी । बी जे पी मख़लूत हुकूमत पर तमाम महाज़ों पर नाकाम होने का इल्ज़ाम आइद करते हुए रियासती कांग्रेस ने कहा कि ये हुकूमत किसी भी वक़्त ज़वाल से दो-चार होसकती है। जम्मू-कश्मीर प्रदेश कांग्रेस कमेटी सदर ग़ुलाम अहमद मीर ने ज़राए इबलाग़ के नुमाइंदों से बातचीत करते हुए कहा कि रियासत में हुकूमत का कोई वजूद ही नहीं है।

ये सिर्फ़ चंद अफ़राद के माबैन मख़लूत इत्तेहाद है जिन्होंने इक़्तेदार की ख़ातिर आपस में हाथ मिला लिया है। उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि हुकूमत अपनी मीयाद पूरी करे लेकिन मौजूदा हुकूमत कभी भी ज़वाल से दो-चार होसकती है। उन्होंने बताया कि पी डी पी – बी जे पी हुकूमत ने इक़्तेदार पर आने से क़बल अवाम से कई वादे किए लेकिन ये सब मह‌ज़ इक़्तेदार की ख़ातिर अवाम को धोका देने वाले वादे साबित हुए।

हुकूमत एक वादा भी पूरा करने में नाकाम रही है। ग़ुलाम अहमद मीर ने हुकूमत पर हमेशा तनाज़ात में घिरे रहने का इल्ज़ाम आइद किया। उन्होंने कहा कि अवाम को बेहतर हुक्मरानी पर तवज्जे करने की बजाय ये हुकूमत सिर्फ़ तनाज़आत में घिरी हुई रहती है। उन्होंने कहा कि रियासती और मर्कज़ी हुकूमत ने अब तक उन मुतास्सिरीन को कोई मदद बहम नहीं पहुंचाई जो गुज़िशता साल आए तबाहकुन सेलाब में अपनी इमलाक से महरूम होगए हैं।

उन्होंने यू पी ए हुकूमत की मिसाल दी जिस ने उत्तराखंड और कश्मीर में आए ज़लज़ले के मुतास्सिरीन को फ़ौरी मदद पहुंचाई थी। इस के बरअक्स मौजूदा हुकूमत ने सेलाब के मुतास्सिरीन पर ज़ख़मों पर नमक छिड़कने का काम किया है। रियासत में किसानों को 37 रुपये की राहत फ़राहम करने का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि इस से हुकूमत के इरादों का बख़ूबी अंदाज़ा किया जा सकता है।

इस के अलावा अब रियासत के अवाम हुकूमत के वादों से बेज़ार होचुके हैं।

TOPPOPULARRECENT