Monday , December 18 2017

कसतान जंग बंदी की ख़िलाफ़ वरज़ीयां रोक दे।

लाईन आफ़ कंट्रोल पर बंदूकों और मार्टरस का इस्तिमाल अफ़सोसनाक: उम्र अबदुल्लाह

लाईन आफ़ कंट्रोल पर बंदूकों और मार्टरस का इस्तिमाल अफ़सोसनाक: उम्र अबदुल्लाह
श्रीनगर 17 अक्टूबर चीफ़ मिनिस्टर जम्मू कश्मीर उम्र अबदुल्लाह ने आज कहा कि पाकिस्तान को लाईन आफ़ कंट्रोल पर जंग बंदी की ख़िलाफ़ वरज़ीयां रोक देनी चाहीए।

हिंदूस्तान की जानिब से जवाबी कार्यवाईयों से दोनों जानिब ग़ैरमामूली फायरिंग के तबादले(बदलव) होते हैं। मैं पाकिस्तान से दरख़ास्त करता हूँ कि वो जंग बंदी का एहतिराम(सम्मान) करे। लाईन आफ़ कंट्रोल पर बंदूकों और मार्टरों का इस्तिमाल अफ़सोसनाक है। हमारे पास भी गिनिस और बंदूक़ें हैं अगर हम भी उसे इस्तिमाल करना शुरू करें तो फिर ये लड़ाई कहां जाकर रुकेगी। उन्हों ने कश्मीर यूनीवर्सिटी में मुनाक़िदा एक तक़रीब के दौरान अख़बारी नुमाइंदों से बात करते हुए कहा कि सरहद के इस पार रहने वाले लोगों के इरादे नेक नज़र नहीं आते। इस लिए वो लोग जंग बंदी की ख़िलाफ़वरज़ी कर रहे हैं। जब जंग बंदी पर ख़ुश दिल्ली से अमल आवरी होती है तो इस की ख़िलाफ़वरज़ी की क्या ज़रूरत है।

क्या इस तरह की कोशिशें दरअंदाज़ी में इज़ाफ़ा का बहाना है या मसला कश्मीर को बैन-उल-अक़वामी सतह पर उछालने की कोशिश है। जैसा कि पाकिस्तान ने हाल ही में अक़वाम मुत्तहिदा में उठाने की कोशिश की थी।उन्हों ने कहाकि जंग बंदी की ख़िलाफ़वरज़ी के बाइस सिर्फ़ आम आदमी मुतास्सिर हो रहे हैं। बगै़र किसी वजह के बेक़सूर अफ़राद को निशाना बनाया जा रहा है।

इसी तरह की कार्यवाईयों में तीन बेगुनाह लोग मारे गए हैं। पाकिस्तानी फ़ौज ने कल ही अलाव सी के क़रीब ऊरी सैक्टर में बुला इश्तिआल फायरिंग और शलबारी की जिस में दो नौजवानों के बिशमोल तीन अफ़राद हलाक हुए थे।दस्तूर की तीसरी तरमीम के दफ़आत में बताया गया है कि जम्मू कश्मीर पंचायत राज क़ानून में देही सतह के इदारों को एहमीयत दी गई है।

TOPPOPULARRECENT