Saturday , December 16 2017

कहकशां परवीन को जदयू ने दिया राज्यसभा का टिकट

जदयू ने सात फरवरी को होनेवाले राज्यसभा इंतिख़ाब में अक्लियत और इंतिहाई पसमांदा कार्ड खेला है। पार्टी ने जुमा को राज्यसभा इंतिख़ाब के लिए अपने तीनों उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर दी। एसके मेमोरियल सभागार में मुनक्कीद साबिक़ वजीर

जदयू ने सात फरवरी को होनेवाले राज्यसभा इंतिख़ाब में अक्लियत और इंतिहाई पसमांदा कार्ड खेला है। पार्टी ने जुमा को राज्यसभा इंतिख़ाब के लिए अपने तीनों उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर दी। एसके मेमोरियल सभागार में मुनक्कीद साबिक़ वजीरे आला कर्पूरी ठाकुर के जन्म तकरीब में जदयू के सरबराह शरद यादव ने कहा कि रियासत खातून कमीशन की सदर कहकशां परवीन, साबिक़ वज़ीर रामनाथ ठाकुर और सिनयर सहाफ़ि हरिवंश को पार्टी ने उम्मीदवार बनाने का फैसला किया है। मई में राज्यसभा से रिटायर हो रहे अपने तीन मेंबरों को जदयू ने लोकसभा इंतिख़ाब लड़ने का ऑप्शन दिया है।

रामनाथ ठाकुर साबिक़ वजीरे आला कर्पूरी ठाकुर के बेटे हैं। इंतिहाई पसमांदा तबके से आनेवाले मिस्टर ठाकुर नीतीश हुकूमत के पहले मुद्दत में इन्फोर्मेशन और अवामी रब्ता वज़ीर थे। पर, 2010 के एसेम्बली इंतिख़ाब में वह समस्तीपुर सीट से हार गये थे। जबकि कहकशां परवीन अक्लियत और इंतिहाई पसमांदा ज़ात से आती हैं। वह भागलपुर की मेयर रह चुकी हैं। मौजूदा में रियासती खातून कमीशन की सदर हैं। हरिवंश प्रभात खबर अखबार के चीफ़ एडिटर हैं और उनकी गिनती मुल्क के सीनियर सहाफ़ियों में होती है। मुल्क के दानिश्वर लोगों में उनकी गहरी पैठ है।

इसके पहले वजीरे आला नीतीश कुमार ने कहा कि मौजदा तीनों एमपी की जगह तीन नये लोगों को राज्यसभा भेजे जाने का फैसला लिया गया है। उन्होंने कहा कि रिटायर हो रहे राज्यसभा के मौजूदा मेंबरों को लोकसभा का इंतिख़ाब लड़ने को कहा गया है। जिन तीन एमपी का मुद्दत नौ मई को खत्म हो रहा है, उनमें शिवानंद तिवारी, एनके सिंह और साबिर अली हैं।

एलेक्शन कमीशन ने बिहार से पांच सीटों समेत कुल 55 सीटों के लिए सात फरवरी को इंतिख़ाब कराये जाने की ऐलान की है. 28 जनवरी को दाखिला की आखरी तारीख है। 29 जनवरी को नॉमिनेशन लेटर की तफ़सीश होगी और 31 जनवरी को नाम वापसी लिये जायेंगे। जदयू तीन सीटें जीत सकेगा। राजद के 22 एसेम्बली रुक्न होने के बावजूद उसकी उम्मीदवारी पर शक है।

एसेम्बली में तादाद की ताकत की बुनियाद पर एक सीट के लिए कम-से-कम 42 वोटों की दरकार है। ऐसे में जदयू छह आज़ाद एसेम्बली रुक्न के वोट से तीन सीट आसानी से जीत सकेगा। भाजपा को दो सीटें मिलेंगी। इसके बाद भी उसके कुछ वोट बच जायेंगे। पांच ही उम्मीदवार रहने की हालत में 31 जनवरी को ही एलेक्शन रिजल्ट का ऐलान कर दी जायेगी। छठे उम्मीदवार होने की सूरत में सात फरवरी को एलेक्शन कराये जायेंगे।

TOPPOPULARRECENT