Saturday , December 16 2017

क़ौम की उम्मीदें नौजवानों से वाबस्ता , मौजूदा तालीम(शिक्षा) आम आदमी के दस्तरस में नहीं

इंफोसिस के बानी मिस्टर नारायना मूर्ती ने इबतिदाई और आला तालीम पर तशवीश का इज़हार करते हुए कहा कि प्राइमरी और आला तालीम में रेकॉर्ड दर्दनाक है । उन्हों ने कहा कि हम ने एक ऐसा माहौल पैदा किया है जिस में बीस साल तक की उम्र के ज़हीन और

इंफोसिस के बानी मिस्टर नारायना मूर्ती ने इबतिदाई और आला तालीम पर तशवीश का इज़हार करते हुए कहा कि प्राइमरी और आला तालीम में रेकॉर्ड दर्दनाक है । उन्हों ने कहा कि हम ने एक ऐसा माहौल पैदा किया है जिस में बीस साल तक की उम्र के ज़हीन और पुर एतिमाद नौजवान जो आलमी सतह की मुसाबक़त (competition) के लिये तय्यार होते हैं 40 साल की उम्र तक पहुंचने के साथ दिल शिकस्ता(मायूस) और नाख़ुश नौजवान बन कर रह जाते हैं । आज यहां जवाहर लाल नेहरू टेक्नोलोजिकल यूनीवर्सिटी के तीसरे कानवोकेशन से मुख़ातब करते हुए उन्हों ने कहा कि क़ौम की उम्मीदें नौजवानों से वाबस्ता होती हैं अगरचे कि इस तरह की तबदीली आसान नहीं है ।

यूनीवर्सिटी के चांसलर और गवर्नर आंधरा प्रदेश मिस्टर ई एस अल नरसिम्हन की जानिब से डॉक्टरेट की एज़ाज़ी डिग्री अता किये जाने के बाद नौजवानों को अपने पयाम में मिस्टर नारायना मूर्ती ने कहा कि हमें अपनी ख़ुद की शनाख़्त पहले हिंदूस्तानी की हैसियत से करना होगा । हमारी वाबस्तगियों से बाला-ए-तर होना होगा । मेरिट को क़बूल करना होगा , और पूरे जोश-ओ-ख़रोश के साथ वो रोल अदा करना होगा जो हमारे लिये निहायत मौज़ूं और मुनासिब है और इस के साथ सख़्त मेहनत भी करनी होगी । इस मौक़ा पर ख़िताब करते हुए गवर्नर मिस्टर ई एस अल नरसिम्हन ने कहा कि मौजूदा तालीम आम आदमी के दस्तरस में नहीं है ।

उन्हों ने तालीम के म्यार , तालीमी इदारों के मक़ासिद , अख्लाकीयात वगैरह के बारे में भी सवालात किये । वाइस चांसलर प्रोफेसर रामेश्वर राव ने गुजश्ता तालीमी साल की रिपोर्ट पेश की और कहा कि यूनीवर्सिटी के नए कॉलेजेस का क़ियाम और नए कोर्सेस वगैरह का आग़ाज़ इस के आइन्दा मंसूबों में शामिल है । उन्हों ने कहा कि हुकूमत ने सिंगूर , ज़िला मेदक में साल 2012-13 से नए इंजीनीयरिंग कॉलेज के क़ियाम के लिये इजाज़त दे दी है । उन्हों ने कहा कि यूनीवर्सिटी ने नए कोर्सेस एमटेक , बायो कैमीकल इंजीनीयरिंग और एम एस सी ओरगेनिक केमिस्ट्री शुरू करने का भी फैसला किया है । इस मौक़ा पर जुमला 74,043 डिग्रियां बिशमुल 178 पी एच डी डिग्रियां अता की गईं । 51 गोल्ड मेडल्स भी अता किए गए ।

TOPPOPULARRECENT