Tuesday , December 19 2017

कांग्रेस और जेवीएम के दरमियान बढ़ी नजदीकी, बाबूलाल से मिले फुरकान अंसारी

भाजपा की मुख्तलिफ दलों के एमएलए दिग्गज अदारों को पार्टी में शामिल कराने की सियासत से इतर कांग्रेस ने अपने पुराने साथी जेवीएम से नजदीकी बढ़ानी शुरू कर दी है। यही नहीं, जेवीएम सरबराह बाबूलाल मरांडी पर दांव भी खेल दिया है। पीर को पार

भाजपा की मुख्तलिफ दलों के एमएलए दिग्गज अदारों को पार्टी में शामिल कराने की सियासत से इतर कांग्रेस ने अपने पुराने साथी जेवीएम से नजदीकी बढ़ानी शुरू कर दी है। यही नहीं, जेवीएम सरबराह बाबूलाल मरांडी पर दांव भी खेल दिया है। पीर को पार्टी के साबिक़ एमएलए फुरकान अंसारी रांची में बाबूलाल मरांडी से मिले और उनके सामने कई तज़वीज़ रखे।

उन्होंने बाबूलाल मरांडी से जेवीएम को कांग्रेस में मिल जाने और रियासती कांग्रेस की क़ियादत संभालने की तज़वीज़ दिया। इधर, रियासती कांग्रेस सदर सुखदेव भगत ने कहा कि जहां तक जेवीएम के कांग्रेस में मिलने की बात है, तो इसका हम इस्तक़बाल करते हैं। बाबूलाल मरांडी पहले कांग्रेस में आएं और पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ें।

आलाकमान से हो रही है बात

कांग्रेस के साबिक़ एमपी फुरकान अंसारी ने कहा कि बाबूलाल मरांडी काफी सुलझे हुए ईमानदार और साफ़ छवि वाले लीडर हैं। मरांडी खुद भी कांग्रेस से इत्तिहाद की ख्वाहिश रखते हैं, पर हमने तो उन्हें इतना तक कह दिया कि वे रियासत में कांग्रेस की क़ियादत संभालें। रियासती कांग्रेस इंतिखाब मुहीम कमेटी की क़ियादत करें और कांग्रेस को इक्तिदार में लाकर रियासत के वज़ीरे आला बनें।

कुछ भी हो सकता है : प्रदीप यादव

जेवीएम के जनरल सेक्रेटरी प्रदीप यादव ने कहा कि फुरकान अंसारी से बाबूलाल मरांडी के अच्छे रिश्ते हैं। जो बात उन्होंने कही है, वह उनके अपने ख्याल हैं। फुरकान अंसारी के साथ एसेंबली इंतिखाब में इत्तिहाद को लेकर बातचीत हुई है। उनकी पार्टी को कांग्रेस से कोई परहेज नहीं है। कांग्रेस में मिल जाने पर उन्होंने कहा कुछ भी हो सकता है। वैसे अभी ऐसा कुछ नहीं है।

TOPPOPULARRECENT