Tuesday , September 25 2018

कांग्रेस कार्यकर्ता की बेटियां राहुल गांधी से ख़फ़ा

लखनऊ। राहुल की किसान यात्रा की तैयारियों के दौरान जान गंवाने वाले कार्यकता की बेटियां बेहद खफा हैं। उन्हें उम्मीद थी कि तक़रीबन ढाई दशक तक कांग्रेस की सेवा करने वाले उसके की मौत पर अफ़सोस जताने राहुल गांधी उनके घर जरूर आएंगे। इस बारे में पार्टी विधायक अखिलेश सिंह ने भरोसा भी दिलाया था। मगर ऐसा नहीं हुआ । राहुल ने रुद्रपुर देवरिया में खाट पंचायत तो की , पर पार्टी के पुराने कार्यकर्ता के परिजनों से मिलना आवश्यक नहीं समझा। आरोप है कि कार्यकर्ता की बच्चियों ने जब उनसे मुलाकात करने की कोशिश की तो नहीं मिले।
तकरीबन 25 वर्षों से कांग्रेस में सक्रिय पंचालगढ़ी का वकील सिंह तीन दिन पहले राहुल गांधी के आगमन के सिलसिले में एक पुलिया पर झंडी पताका लगा रहा था। तभी निचे गिर ने से उसकी मौत हो गई ।वकील सिंह की पत्नी की सात वर्ष पहले ही मृत्यु हो चुकी है। परिवार में तीन बेटियां 25 वर्षीय प्रियंका, 10 वर्षीय प्रीति और 8 वर्षीय प्रिया है। वकील सिंह और बच्चों की मौसी प्रतिभा किसी तरह इनकी परवरिश कर रहे थे। तभी यह हादसा हो गया।
मृतक की बड़ी बेटी प्रियंका ने बताया कि उसके पिता की अंतिम यात्रा में यहां के विधायक अखिलेश सिंह शामिल हुए थे। तब उन्होंने वादा किया था कि वे राहुल गांधी को उसके घर लेकर आएंगे। राहुल भैया यहाँ दो मंजिला भवन गए और बैठे, लेकिन उसके घर आना ज़रूरी नहीं समझा। इसके बाद वह उनसे बात करने गई, पर वे उससे मिले बगैर निकल गए। उसने अफ़सोस जाहिर करते हुए कहा कि जिस पार्टी की उसके पिता ने अंतिम सांसें तक सेवा की उसके नेताओं का रवैया वाकई दुःख देने वाला है।

-यूपी से मलिक असग़र हाशमी

TOPPOPULARRECENT