Monday , December 11 2017

कांग्रेस की सरगर्मीयां गांधी भवन से दिल्ली के वार रुम को मुंतक़िल

क़ियाम तेलंगाना पर जारी सियासत अब यक़ीनी तौर पर इंतिख़ाबी मुहिम का रास्ता इख़तियार करचुकी है। कांग्रेस और तेलुगु देशम की तरफ़ से इख़तियार करदा मौक़िफ़ से इस बात के वाज़िह इशारे मिल रहे हैं।

क़ियाम तेलंगाना पर जारी सियासत अब यक़ीनी तौर पर इंतिख़ाबी मुहिम का रास्ता इख़तियार करचुकी है। कांग्रेस और तेलुगु देशम की तरफ़ से इख़तियार करदा मौक़िफ़ से इस बात के वाज़िह इशारे मिल रहे हैं।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी तक़सीम के मसले पर मर्कज़ी वुज़रा के ग्रुप को तेलंगाना और सीमांध्र पर अलग अलग रिपोर्टस पेश करचुकी है। तेलुगु देशम पार्टी ने मीडीया के ज़रीये हुकूमत को मश्वरे देने का तरीका-ए-कार इख़तियार करते हुए मर्कज़ से खास तौर पर मुतालिबा किया है कि क़ियाम तेलंगाना के अमल को सीमांध्र अवाम की तरफ़ से उठाए गए मसाइल की यकसूई तक रोक दिया जाये। रियासत की इन दो बड़ी जमातों के अलावा वाई एस आर कांग्रेस जैसी तीसरी अहम जमात ने रियास्ती असेंबली के चुनाव‌ मुनाक़िद करने का मुतालिबा किया है ताकि अवामी फ़ैसले के मुताबिक़ रियासत की तक़सीम पर पेशरफ़त की जा सके।

वाई एस आर कांग्रेस पार्टी के सदर जगन मोहन रेड्डी ने मर्कज़ी काबीना की तरफ से तेलंगाना नोट की मंज़ूरी के ख़िलाफ़ रखे गए अपने बरत के दौरान इस ख़्याल का इज़हार किया था। ताहम कांग्रेस की रियास्ती राबिता कमेटी का 8 नवंबर को मुनाक़िद शुदणी ग़ैरमामूली एहमीयत का हामिल होचुका है क्यूंकि ये एक इंतेहाई नाज़ुक मरहले पर तलब किया गया है जिस में चीफ़ मिनिस्टर एन किरण कुमार रेड्डी के मुक़द्दर का फ़ैसला भी किया जा सकता है जो रियासत की तक़सीम से मुताल्लिक़ कांग्रेस वर्किंग कमेटी के फ़ैसले की खुले आम मुख़ालिफ़त कररहे हैं।

TOPPOPULARRECENT