Monday , December 11 2017

कांग्रेस के लिए खुद एह्तेसाबी का वक़्त- सोनीया गांधी

जयपुर 18 जनवरी- गुलाबी नगरी में कांग्रेस के चिंतन कैंप की शुरूआत करते हुए कांग्रेस की सदर और यू पी ए की चियरपर्सन सोनीया गांधी ने कहा कि ये खुद एह्तेसाबी का वक़्त है. और इस के लिए मीटिंग काफ़ी ज़रूरी है और ये बहुत अहम होगा.

जयपुर 18 जनवरी- गुलाबी नगरी में कांग्रेस के चिंतन कैंप की शुरूआत करते हुए कांग्रेस की सदर और यू पी ए की चियरपर्सन सोनीया गांधी ने कहा कि ये खुद एह्तेसाबी का वक़्त है. और इस के लिए मीटिंग काफ़ी ज़रूरी है और ये बहुत अहम होगा. हमें गठबंधन धर्म निभाना पड़ेगा. ज़ाती फ़ायदा छोड़कर एक साथ काम करने की ज़रूरत है. कई रियास्तों में इक़तिदार में ना होना बाइस फ़िक्र है. जिन रियास्तों में इक़तिदार में नहीं हैं, वहां साथ काम करने की ज़रूरत है।

सोनीया ने कहा कि दहश्तगर्दी किसी क़ीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. पार्टी इसे लेकर संजीदा है. आज हुकूमत से मुल्क की उम्मीदें बढ़ रही हैं. बदलते भारत की शनाख़्त होगा. उन्हों ने कहा कि नौ साल में मुल्क की काफ़ी तरक़्क़ी हुई है. सेमाजी ज़िम्मेदारी के साथ तरक़्क़ी ज़रूरी है. किसानों के मफ़ादात को हमेशा तर्जीह दी गई।

उन्हों ने कहा कि इक़तिसादी तरक़्क़ी का फ़ायदा सब को मिले, ऐसी हमारी मंशा है. पार्टी का ख़्याल हमेशा सेमाजी इंसाफ़ और इक़तिसादी तरक़्क़ी पर रहा. हमें समाज के कमज़ोर तबकों की फ़िक्र है. मनरेगा का ज़िक्र करते हुए उन्हों ने कहा कि इस से करोड़ों लोगों को फ़ायदा मिला है. मुल्क के कई हिस्सा अब भी काफ़ी पसमांदा है और इस के फ़रोग़ के लिए मुनासिब इक़दामात किए जाऐंगे। (ऐजेंसी)

TOPPOPULARRECENT