कांग्रेस के साथ गठबंधन का अनुभव अच्छा नहीं रहा है- मायावती

कांग्रेस के साथ गठबंधन का अनुभव अच्छा नहीं रहा है- मायावती

लोकसभा चुनाव 2019 में नरेंद्र मोदी के विजयरथ को उत्तर प्रदेश में रोकने के लिए बसपा अध्यक्ष मायावती और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने गठबंधन का एलान कर दिया है। कांग्रेस को इस गठबंधन से बाहर रखा गया है। कांग्रेस को साथ न लेने की वजह मायावती ने बताई।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस और बीजेपी दोनों की नीतियां एक तरह की है। इसके अलावा कांग्रेस के साथ गठबंधन करने का अनुभव सपा और बसपा के लिए बेहतर नहीं रहे हैं, इसी मद्देनजर उन्हें शामिल नहीं किया गया है। हालांकि मायावती ने कहा कि रायबरेली और अमेठी में कांग्रेस उम्मीदवार के खिलाफ गठबंधन अपना कोई उम्मीदवार नहीं उतारेगा।

मायावती ने कहा कि सपा-बसपा दोनों ने पूर्व में कांग्रेस से गठबंधन कर चुनाव लड़ चुकी हैं, लेकिन इसका अनुभव सभी नहीं था। बसपा ने उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के साथ 1996 में गठबंधन कर विधानसभा चुनाव लड़ा था, जिसमें हमारा वोट तो कांग्रेस के लिए ट्रांसफर हुआ लेकिन कांग्रेस का वोट हमारी पार्टी को नहीं मिला।

इसी तरह से 2017 के विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव ने कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ा, लेकिन उसका भी फायदा सपा को नहीं मिल सका था।

उन्होंने कहा कि एक सोची-समझी रणनीति के तहत कांग्रेस का वोट बीजेपी में ट्रांसफर हो जाता है। इसी के चलते कांग्रेस को गठबंधन में शामिल नहीं किया है।

जबकि सपा-बसपा ने पहले गठबंधन करके देख चुके हैं. उपचुनाव में दोनों पार्टियों के कार्यकर्ता एक दूसरे को पूरी ईमानदारी से वोट करते हैं. उन्हें कोई परहेज नहीं होता है।

साभार- ‘आज तक’

Top Stories