Monday , September 24 2018

कांग्रेस ने अलहदा तलंगाना का कभी ऐलान नहीं किया!

हैदराबाद, 19 अक्तूबर (सियासत न्यूज़) सीमा, आंधरा की नुमाइंदगी करने वाले कांग्रेस के रुकन पार्लीमैंट मिस्टर लगड़ा पाटी राजगोपाल ने कहा कि आम हड़ताल ख़तम हो गयी है, सरकारी मुलाज़मीन की तंज़ीमें एक एक करके रज़ाकाराना तौर पर आम हड़ताल से दस्तब

हैदराबाद, 19 अक्तूबर (सियासत न्यूज़) सीमा, आंधरा की नुमाइंदगी करने वाले कांग्रेस के रुकन पार्लीमैंट मिस्टर लगड़ा पाटी राजगोपाल ने कहा कि आम हड़ताल ख़तम हो गयी है, सरकारी मुलाज़मीन की तंज़ीमें एक एक करके रज़ाकाराना तौर पर आम हड़ताल से दस्तबरदार हो रही हैं, जब कि प्रोफ़ैसर कूद नड्डा राम आम हड़ताल जारी रहने का झूटा ऐलान कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने अलहदा तेलंगाना रियासत तशकील देने का कभी ऐलान नहीं किया। सोनीया गांधी जब भी रियासत के दौरे पर आएं, आंधरा प्रदेश का नारा दिया। मिस्टर लगड़ा पाटी ने कहा कि नाम निहाद कन्वीनर तेलंगाना सयासी जवाइंट ऐक्शण कमेटी प्रोफ़ैसर कोदंडा राम ने मस्नूई तहरीक चलाते हुए आम हड़ताल के नाम पर सरकारी मुलाज़मीन को ज़बरदस्ती आम हड़ताल में शामिल किया।

हक़ायक़ (हकीकत) का अंदाज़ा होने के बाद मुलाज़मीन ख़ुद बह ख़ुद यके बाद दीगरे आम हड़ताल से दस्तबरदार हो रहे हैं। अगर ये काम मुलाज़मीन पहले करते तो तेलंगाना के अवाम को बहुत बड़ी राहत मिलती। उन्हों ने इद्दिआ किया कि नवंबर के पहले हफ़्ता तक कांग्रेस हाईकमान तेलंगाना के मसला पर कोई काबिल-ए-क़बूल हल बरामद करलेगी। कांग्रेस पार्टी रियासत के क़ाइदीन के साथ मुज़ाकरात मुकम्मल कर चुकी है।

कांग्रेस एक क़ौमी जमात है, लिहाज़ा फ़ैसला करने से क़बल कांग्रेस के क़ौमी क़ाइदीन के साथ मुज़ाकरात ज़रूरी हैं। इस के बाद कांग्रेस की हलीफ़ जमातों की भी राय हासिल की जाएगी। रियासत की चंद जमातों ने हनूज़ किसी वाज़िह फ़ैसला का ऐलान नहीं किया।

कांग्रेस पार्टी के अलहदा तलंगाना रियासत तशकील देने के वाअदा से मुनहरिफ़ होने के सवाल का जवाब देते हुए लगड़ा पाटी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने अलहदा तलंगाना रियासत तशकील देने का कभी वाअदा नहीं किया।

9 दिसंबर 2009-ए-को मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला मिस्टर पी चिदम़्बरम ने मशरूत ऐलान किया था और अलहदा तेलंगाना रियासत की तशकील के लिए असैंबली में क़रारदाद की मंज़ूरी को लाज़िमी क़रार दिया था। क़रारदाद की मनतोरी उस वक़्त भी नामुमकिन थी और अब भी नामुमकिन है।

बांसवाडा के ज़िमनी इंतिख़ाब के नतीजा पर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए उन्हों ने कहा कि ज़िला में 33 फ़ीसद कांग्रेस का वोट बैंक मज़बूत है, जब कि शहरों में इस का तनासुब ज़्यादा ही। अगर कांग्रेस क़ाइदीन ज़िमनी इंतिख़ाब पर तवज्जा देते तो नताइज कुछ भी हो सकते थे। रियासत में कोई भी जमात मुत्तहदा आंधरा प्रदेश के नारे पर मुक़ाबला करेगी तो इस को 240 नशिस्तों पर बाआसानी कामयाबी हासिल होगी।

TOPPOPULARRECENT