Sunday , December 17 2017

कांग्रेस ने की मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड से ओवैसी को हटाने की मांग

हैदराबाद : कांग्रेस पार्टी ने एमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी पर समान नागरिक संहिता के मुद्दे पर मुसलमानों को बांटने का आरोप लगाया है  | पार्टी ने ओवैसी को इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) के सदस्य के तौर पर हटाने की मांग की है |

GHCC अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष शेख अब्दुल्ला सोहेल ने कहा कि मुस्लिम बोर्ड ने स्पष्ट तौर पर मुसलमानों को समान नागरिक संहिता पर विधि आयोग द्वारा जारी प्रश्नावली का जवाब नहीं देने के लिए कहा है | ओवैसी ने मुस्लिम बोर्ड के फैसले का सम्मान करने की बजाय  घोषणा की कि उनकी पार्टी सवालों का जवाब देगी | ऐसा करके, असदुद्दीन ओवैसी ने मुस्लिम समुदाय को बाँटने की कोशिश की है |

अब्दुल्ला सोहेल ने कहा कि बोर्ड ने उचित समय पर सही निर्णय ले लिया | कानून आयोग की तथाकथित सर्वेक्षण में भाग लेने से मना करना मुसलमानों को देश में समान नागरिक संहिता की शुरूआत के खिलाफ एक स्पष्ट मज़बूत संदेश दिया जाना था | जबकि एमआईएम अध्यक्ष ने कहा कि समान नागरिक संहिता की प्रश्नावली के ज़रिये विधि आयोग इस मुद्दे पर हर किसी को विचार-विमर्श का अवसर देना चाहता है | उन्होंने कहा कि कुछ स्वयंभू बुद्धिजीवी और सुधारवादी शरिया कानून को लक्षित करने के लिए इस अवसर का प्रयोग करेंगे। जबकि हम ऐसा नहीं होने देंगे|

कांग्रेस नेता ने कहा कि असदुद्दीन ओवैसी मुस्लिम बोर्ड के सामूहिक निर्णय के खिलाफ हैं | इसलिए इन्हें बोर्ड के सदस्य पद से हटाया जाना चाहिए| मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के एक सदस्य के रूप में, एमआईएम अध्यक्ष को बोर्ड के  फैसले को स्वीकार किया जाना चाहिए था। कोई भी व्यक्ति एक विषय पर दो अलग अलग विचार नहीं रख सकता , विशेष रूप से जब यह मामला शरियत का हो | इसलिए उन्होंने मांग की कि  असदुद्दीन ओवैसी को खुद इस्तीफा दे देना चाहिए या बोर्ड को उसकी सदस्यता रद्द कर देनी चाहिए|  इसके अलावा, उन्होंने यह भी मांग की है कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के रूप में किसी भी विशुद्ध धार्मिक मामले से निपटने के लिए किसी भी राजनेता को सदस्यता नहीं दी जानी चाहिए |

अब्दुल्ला सोहेल ने ये भी आरोप लगाया कि असदुद्दीन ओवैसी को शरिया कानून पर बात करने के लिए अधिकृत नहीं किया जा सकता है | उन्होंने कहा कि हालांकि एमआईएम अध्यक्ष एक वकील हैं लेकिन वह मुफ्ती या आलिम नहीं है जो शरिया कानून पर विचार करें| उन्होंने आगे कहा कि वह एक अभ्यासरत  वकील नहीं है। उन्होंने कहा कि असदुद्दीन ओवैसी शरिया कानून पर कुछ किताबें पढ़ी होंगी लेकिन वह एक योग्य मुफ्ती नहीं हैं | वह शरिया कानून पर राष्ट्रीय टेलीविजन चैनलों पर चर्चा में भाग लेने के लिए कोई अधिकार नहीं रखते हैं | एक मुस्लिम बहुल इलाक़े से सांसद होने या धाराप्रवाह अंग्रेजी बोलने से आप आप शरिया पर टिप्पणी करने के क़ाबिल नहीं हो सकते हैं | इस विषय को नेताओं द्वारा नहीं बल्कि आलिम और मुफ़्ती द्वारा ही बेहतर ढंग से संभाला जा सकता है |

कांग्रेस नेता ने याद दिलाया कि असदुद्दीन ओवैसी के पिता और उस वक़्त के एमआईएम अध्यक्ष सलाहुद्दीन ओवैसी ने धार्मिक संगठनों और शीर्ष नेताओं के एक समूह द्वारा गठित बाबरी मस्जिद समन्वय समिति को हटाने के लिए बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी बना कर मुसलमानों के बीच दरार पैदा की थी  |  नतीजतन, मुसलमानों के इस विभाजन के कारण अयोध्या में बाबरी मस्जिद के विध्वंस हो गया |  उन्होंने कहा कि असदुद्दीन ओवैसी मुसलमानों को विभाजित करने में अपने पिता की नकल कर रहे हैं और यह इस देश में समान नागरिक संहिता के लागू होने का कारण बन सकता है | उन्होंने असदुद्दीन ओवैसी की विभाजनकारी रणनीति को परोक्ष रूप से भाजपा और संघ परिवार की मदद करने वाला बता कर मुसलमानों को इसका शिकार न होने की सलाह दी |

TOPPOPULARRECENT