Friday , May 25 2018

कांग्रेस पार्टी पर ओछी सियासत करने का इल्ज़ाम

कड़पा, १४ जनवरी( सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़) वाई एस आर कांग्रेस पार्टी कड़पा कन्वीनर एसबी अहमद बाशाह ने गेस्ट हाउस में मुनाक़िदा प्रैस कान्फ़्रैंस से ख़िताब करते हुए रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूद मिस्टर अहमद उल्लाह पर तन्क़ीद करते हु

कड़पा, १४ जनवरी( सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़) वाई एस आर कांग्रेस पार्टी कड़पा कन्वीनर एसबी अहमद बाशाह ने गेस्ट हाउस में मुनाक़िदा प्रैस कान्फ़्रैंस से ख़िताब करते हुए रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूद मिस्टर अहमद उल्लाह पर तन्क़ीद करते हुए कहा कि शहर कड़पा की वक़्फ़ जायदादों को उन के ख़ानदान के
अफ़राद क़बज़ा कर रहे हैं जिस से सब ही वाक़िफ़ हैं ।

इस मुआमला पर मिस्टर अहमद उल्लाह को जवाब देना होगा । ज़िला कड़पा के तमाम अख़बारों ने मिस्टर
अहमद उल्लाह के ख़ानदान के अफ़राद की जानिब से वक़्फ़ इमलाक पर नाजायज़ क़ब्ज़ों के ताल्लुक़ से बहुत कुछ लिख चुके हैं इस के बावजूद मिस्टर अहमद उल्लाह ख़ामोश हैं कोई जवाब नहीं दे रहे हैं और ना ही वक़्फ़ इमलाक पर नाजायज़ क़ब्ज़ों के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई कर रहे हैं ।

मिस्टर अमजद बाशाह ने कहा कि गुज़शता ढाई साल के दौरान मुताल्लिक़ा वज़ीर ने अवाम की बहबूद के लिए कुछ नहीं किया सिर्फ अपनी माली हालत को काफ़ी मुस्तहकम किया है ।

आँजहानी क़ाइद डाक्टर वाई एस राज शेखर रेड्डी की बदौलत मिस्टर अहमद उल्लाह को रियास्ती काबीना में जगह मिली है जिस से वो नाजायज़ फ़ायदा उठा रहे हैं । मिस्टर अमजद बाशाह ने मिस्टर अहमद उल्लाह को रियास्ती काबीना से फ़ौरी मुस्ताफ़ी होने का मुतालिबा किया ।

उन्हों ने रियास्ती वज़ीर-ए-सेहत मिस्टर डाक्टर डी ईल रवीनदरा रेड्डी पर तन्क़ीद करते हुए कहा कि रियास्ती वज़ीर रहते हुए भी उन्हों ने कड़पा पार्लीमान के ज़िमनी इंतिख़ाबात में वाई एस आर कांग्रेस सदर मिस्टर वाई ऐस जगन मोहन रेड्डी के मुक़ाबला में अपनी ज़मानत ज़बत हो गई । ऐसे शख़्स को रियास्ती काबीना में बरक़रारी का कोई हक़ नहीं पहुंचता । इक़तिदार का नाजायज़ फ़ायदा उठाकर वाई एस आर कांग्रेस क़ाइदीन को लालच दे कर कांग्रेस पार्टी में शामिल कर रहे हैं ।

ये ओछी सियासत है साबिक़ कारपोरेटर्स हुसैन सरदारी और नाता सतीश को वाई ऐस आर कांग्रेस पार्टी से कांग्रेस पार्टी में शामिल किया गया है जो लालच का नतीजा है । इन दोनों साबिक़ कारपोरेटर्स से कड़पा के अवाम अच्छी तरह से वाक़िफ़ हैं । दोनों में से एक नाता सतीश ने तेलगुदेशम टिकट पर कामयाबी
हासिल की तो हुसैन सरदारी एक आज़ाद उम्मीदवार की हैसियत से कारपोरेटर मुंतख़ब होकर कांग्रेस में शामिल हुए थे ।

बादअज़ां कांग्रेस पार्टी छोड़कर वाई एस आर कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए ।अब वाई ऐस आर कांग्रेस पार्टी छोड़कर दुबारा कांग्रेस पार्टी में चले गए । ये मौकापरस्त क़ाइदीन हैं जिन्हें अवाम कभी माफ़ नहीं करेंगे । कांग्रेस क़ाइदीन झूटा प्रोपगंडा कर के अवाम से कह रहे हैं कि 10साबिक़ कारपोरेटर्स कांग्रेस पार्टी में शामिल होरहे हैं । इन दोनों साबिक़ कारपोरीटरों को छोड़कर कोई भी कांग्रेस पार्टी में शामिल नहीं हुआ है ।

ये दो कारपोरेटर्स भी कांग्रेस पार्टी या रियास्ती वज़ीर पर मुहब्बत से नहीं बल्कि अपने मुफ़ादात के हुसूल के लिए ही कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए हैं । मिस्टर अमजद बाशाह ने कहा कि आज कांग्रेस पार्टी में कोई भी क़ाइद ख़ुश नहीं है । एक के ख़िलाफ़ दूसरा क़ाइद बयानबाज़ी कर रहा है ।

कांग्रेस पार्टी ग्रुपों में बट चुकी है ।125 साला क़दीम कांग्रेस पार्टी की बुनियादों को वाई एस आर कांग्रेस ने हिलाकर रख दिया है । आने वाले तमाम इंतिख़ाबात में वाई ऐस आर कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवारों की ज़बरदस्त अक्सरीयत से कामयाबी यक़ीनी है । इस इजलास में वाई एस आर कांग्रेस क़ाइदीन मासीमा बाबू करीम उल्लाह इस्माइल बिस्वा राज और दूसरे मौजूद थे |

TOPPOPULARRECENT