Tuesday , December 12 2017

सुनवाई के दौरान, बेंच ने सिक्यॉरिटी बुलाया कहा, कोई है जो पूर्व जज काटजू को कोर्ट से बाहर करे

नई दिल्ली : अपने बेबाक बयानों के लिए मशहूर जस्टिस काटजू ने अपने फेसबुक ब्लॉग में सौम्या मामले में आए फैसले के लिए जज की आलोचना की थी। कोर्ट ने कहा कि जस्टिस काटजू का जस्टिस गोगोई के पर दिया गया बयान तीन जजों की बेंच पर सीधा हमला है जिसमें फैसले की नहीं बल्कि जजों की आलोचना की गई है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने ही पूर्व जज जस्टिस मार्कंडेय काटजू को न्यायालय की अवमानना का नोटिस भेजा है। कोर्ट ने यह नोटिस सौम्या हत्याकांड मामले में काटजू द्वारा जजों की आलोचना किए जाने के बाद उठाया है।

कोर्ट के नोटिस के बाद जस्टिस काटजू ने कहा, ‘मिस्टर गोगोई मुझे डराने की कोशिश मत कीजिए। आपके जो मन में आए कीजिए, मुझे डर नहीं लगता।’ इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जबकि अपने ही किसी पूर्व जज को सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना का नोटिस दिया हो। कोर्ट में सुनवाई के दौरान काटजू के उत्तेजित होने पर बेंच ने सिक्यॉरिटी को बुला लिया। बेंच ने कहा, ‘क्या कोई है जो जस्टिस काटजू को कोर्ट से बाहर ले जा सके।’

गौरतलब है कि सौम्या हत्याकांड पर फैसला आने के बाद 17 अक्टूबर को काटजू ने कोर्ट में पेश होने और केस पर बहस करने की मांग की थी। काटजू का अपने ब्लॉग में कहना था कि इस फैसले के कारण हत्या के आरोपी फांसी की सजा से बच गए हैं। इसके बाद कोर्ट ने काटजू को समन भेज कर कोर्ट के सामने पेश होकर अपने आरोपों को साबित करने को कहा था।

TOPPOPULARRECENT