Wednesday , June 20 2018

कानपुर में काजी और पुलिस की समझदारी से टली सांप्रदायिक हिंसा

PC: AmarUjala

उत्तरप्रदेश: बीजेपी सरकार के केंद्र में आने के बाद देश के कोने कोने में सांप्रदायिक भावनाओं को आहात कर दंगे भड़काने की कोशिशें लगातार जारी हैं। सांप्रदायिक तनाव पैदा करने वाली ऐसी ही एक घटना सामने आयी यूपी के कानपुर में जहाँ शहर की पुलिस और काज़ी ने मिलकर सांप्रदायिक हिंसा को होने से टाल दिया। घटना कानपुर के कैंट थाना क्षेत्र की एक धर्मस्थल पर कुछ उत्पातियों ने धार्मिक वस्तुओं के साथ छेड़छाड़ की साजिश की। इस घटना की खबर फैलते ही उक्त सम्प्रदाय से जुड़े सैकडों लोग मौके पर जुट गए, गुस्से से भरे यह लोग कुछ भी करने को उतारू हो गए। ऐसे में भीड़ में कुछ शरारती तत्व आ मिले जिन्होंने तूल देने की कोशिश शुरू कर दी। आनन-फानन में मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस, पीएसी तैनात हो गई।

भीड़ में घुसे कुछ लोग थे जो माहौल को बिगाड़ने की कोशिश कर रहे थे इलाके में आग लगाने की तैयारी करने लगे लेकिन इससे पहले कि कोई अप्रिय घटना हो पाती जिला प्रशासन, पुलिस व शहर काजी काजी आलम रजा नूरी ने मौवा संभालते हुए भीड़ को शांत करने कोशिशें शुरू कर दीं। क़ाज़ी काजी आलम रजा नूरी ने भीड़ को समझाते हुए लोगों से एक दुसरे के लिए मनों में जहर घोलने की इस साजिश को समझने के लिए कहा और कहा कि हमें एक-दूसरे की भावनाअाें काे समझना हाेगा अाैर सम्मान करना हाेगा। काजी के साथ कुछ और लाेगाें ने भी मामला शांत कराया। पुलिस ने भी फौरी तौर पर अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी।

TOPPOPULARRECENT