Tuesday , June 26 2018

कानून में कहीं नहीं लिखा है ‘बीफ’ खाना ज़ुर्म है: मद्रास हाई कोर्ट

court-room-hammer

देश में जहां बीफ खाने को लेकर बहस जारी है और दंगे फसाद किये जा रहे हो ,वही एक जनहित याचिका को खारिज करते हुए मद्रास हाई कोर्ट ने कहा है कि बीफ खाना अपराध नहीं है।कानून की किसी किताब में खाने की आदतों को लेकर जिक्र नहीं है।याचिकाकर्ता ने मांग की थी कि पलानी मंदिर के आसपास के इलाके में लगने वाली मुसलमानों की मीट शॉप्स को हटाया जाए। जस्टिस ए.मणिकुमार और सीटी सेल्वम की डिविजन बेंच ने कहा, भारतीय दंड संहिता में ऐसा कहीं नहीं कहा गया है कि नॉनवेज खाना अपराध है।

इसीलिए किसी भी धर्म में खाने की आदतों को लेकर कोई कानून नहीं है। लिहाज़ा, याचिकाकर्ता का यह कहना कि बीफ खाना एक अपराध है, इसे मंजूर नहीं किया जा सकता।| याचिकाकर्ता ने कहा था कि दुकानदार मंदिर के पास बैठकर बीफ या अन्य नॉन वेजखाते हैं। इसकी वजह से हिंदुओं की भावनाएं आहत होती हैं, लेकिन कोर्ट ने इस दावे को मानने से इनकार कर दिया।मालूम हो की याचिकाकर्ता पेशे से वकील और हिंदू मुन्नेत्र कषगम के अध्यक्ष हैं।

TOPPOPULARRECENT