Monday , December 11 2017

काबुल में जर्मन दूतावास पर तालिबान का हमला, 4 की मौत अधिक से 100 लोग घायल

मजार शरीफ: तालिबान आतंकवादियों ने विस्फोटक से भरी एक कार इस अफगान शहर में जर्मन दूतावास की दीवार से टकरा गई जिसमें 4 आम नागरिक मारे गए और अधिक से 10 अन्य लोग घायल हो गए। तालिबान ने इसकी जिम्मेदारी ली है और कहा है कि यह पिछले सप्ताह कुन्दूज़ी के निकट गांव में हुए नाटो के हमले का बदला है जो 30 से अधिक निर्दोष नागरिक मारे गए थे प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि दूतावास के आसपास रुक रुक कर‌ गोली चलने की आवाज आ रही हैं जिनसे इस कवर के आसपास बड़े क्षेत्र में इमारतों की खिड़कियां टूट गई हैं।

नाटो के प्रवक्ता ने बताया कि विस्फोट से इमारत को भारी नुकसान हुआ है जहां आमतौर पर 30 लोग काम करते हैं। धमाके के बाद वहाँ बंदूकधारियों ने गोलियां भी चलाते हैं। बलख प्रांत के नाटो प्रवक्ता सैयद कमाल सादात ने बताया है कि कई आम नागरिक मारे गए हैं और उड़ते हुए कांच से घायल हो गए हैं मगर दूतावास में किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचा। जर्मन विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का कहना है कि अफगान और जर्मन सुरक्षा बलों तथा नाटो विशेष बलों ने हमला घृणा उत्पन्न कर दिया है। उन्होंने बताया कि दूतावास के सभी जर्मन कर्मचारियों सुरक्षित। किसी को नीचा नहीं पहचाना है।

अभी यह नहीं पता कि कितने अफगान नागरिक मारे गए और घायल हुए हैं। इस हमले से पता चलता है कि वहां के हालात हाल के महीनों में कितने खराब हो चुके हैं। अशांत हेलमंद से लेकर कुन्दूज़ी तक लड़ाई जारी है। पिछले सप्ताह अमेरिकी विमानों ने हवाई हमले करके 30 नागरिकों को मार डाला था जो कई बच्चे भी शामिल थे। क्योंकि तालिबान ने अफगान और अमेरिकी बलों पर हमला किया था। इसके बदले में अमेरिका ने आम नागरिकों को निशाना बनाया था।

हमला कल रात हुआ था अफगान बलों खोज की कार्रवाई कर रही हैं मगर उन्हें अब प्रतिरोध का सामना नहीं है। नाटो प्रवक्ता ने बताया कि कम से कम एक कार दीवार से टकराई थी जिससे विस्फोट हुआ था। मगर हो सकता है कि दूसरी कार भी हो। एक पत्रकार बिलाल सरवरी एक डॉक्टर के हवाले से बताया है कि हमले में कम से कम 2 लोग मारे गए और 87 घायल हुए हैं।

एक अफगान पुलिस अधिकारी ने बताया कि कार बम ने कवर के फाटक को निशाना बताया जिसके बाद कई हमलावर अंदर प्रवेश हो गए। कांसुलेट मजार शरीफ के बीच में ब्लू मस्जिद के निकट एक इमारत में स्थित है। यहाँ इस साल की शुरुआत में भारतीय दूतावास को भी निशाना बनाया गया था। नाटो बलों के शहर के किनारे पर बड़ा अड्डा स्थापित है जर्मनी उत्तरी अफगानिस्तान में नाटो की उपस्थिति के लिए जिम्मेदार है इस अड्डे में उसके 850 सैनिक हैं जबकि एक हजार सैनिक दूसरे पश्चिमी देशों के हैं।

TOPPOPULARRECENT