कालीकट हवाई अड्डे से अब भारी विमानों का शुरू होगा संचालन

कालीकट हवाई अड्डे से अब भारी विमानों का शुरू होगा संचालन

भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण (एएआई) ने कल से सऊदी एयरलाइंस द्वारा कालीकट अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अड्डे से भारी विमानों (एयरबस) का संचालन फिर से शुरू किए जाने की घोषणा की है।

भारी विमानों का संचालन मई 2015 से सुरक्षा कारणों की वजह से बंद कर दिया गया था। इसके बाद एएआई ने भारी विमानों के संचालन के लिए आवश्‍यक रनवे और उसकी पट्टी को मजबूत करने तथा रनवे स्‍ट्रीप को उन्‍नत बनाने का काम शुरू कर दिया।

सुरक्षा को पुख्‍ता करने के लिए नियामक प्राधिकरणों के निर्देश के अनुसार एएआई ने रनवे की लम्‍बाई को बढ़ाया और दोनों रनवे पर सिम्‍पल टच डाउन जोन फ्लाइट्स लगाई।

इसके बाद हवाई अड्डे से भारी विमानों के सुरक्षित संचालन के लिए उसकी उपयुक्‍तता का आकलन करने के लिए डीजीसीए-एएआई के संयुक्‍त निरीक्षण दल द्वारा अनुशंसित दिशा-निर्देशों के अनुसार अनुकूलता अध्‍ययन और सुरक्षा आकलन भी कराया गया।

अनुकूलता अध्‍ययन रिपोर्ट, सुरक्षा आकलन और खतरा कम करने के उपायों के आधार पर डीजीसीए ने कालीकट हवाई अड्डे से भारी विमानों के उड़ान भरने के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी कर दिया है। सऊदी एयरलाइंस अपने बड़े विमानों (A330-300/B777-200ER)  से रियाद और जेद्दाह के लिए उड़ान सेवाएं शुरू करने जा रही है।

एएआई के अधीन कालीकट अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अड्डा लाभ कमाने वाला हवाई अड्डा है, जहां से सालाना 30 लाख हवाई यात्री आते-जाते हैं, जिनमें से 26 लाख अंतरराष्‍ट्रीय यात्री हैं।

Top Stories