Monday , December 18 2017

काले धन के बारे में तमाम मालूमात का इन्किशाफ़ नहीं किया जा सकता

मर्कज़ी हुकूमत का सुप्रीम कोर्ट में बयान

मर्कज़ी हुकूमत का सुप्रीम कोर्ट में बयान

मर्कज़ी हुकूमत ने आज सुप्रीम कोर्ट के इजलास पर बयान दिया कि बैरून-ए-मुमालिक से काले धन के बारे में वसूल होने वाली तमाम मालूमात का इन्किशाफ़ नहीं किया जा सकता। क्योंकि इन ममालिक के साथ हिन्दुस्तान का दोहरी मुहासिल अंदाज़ी से गुरेज़ का मुआहिदा मौजूद है।

मर्कज़ी हुकूमत ने अपनी दरख़ास्त में कहा कि बैरूनी ममालिक ने ऐसी मालूमात के अफ़शा-ए-पर एतराज़ किया है। ऐसी तफ़सीलात किसी भी दीगर मुल्क ने ज़ाहिर नहीं कीं। जिस ने हिन्दुस्तान के साथ ऐसा मुआहिदा कर रखा है। चीफ़ जस्टिस एच एल दत्तू की ज़ेरे क़ियादत क़ायम बेंच के इजलास पर हुकूमत की जानिब से पेश होते हुए अटार्नी जनरल मुवक्किल रोहतगी ने कहा कि ये मसला आजलाना समाअत का तक़ाज़ा करता है।

सीनियर ऐडवोकेट राम जेठमलानी जिन की दरख़ास्त पर सुप्रीम कोर्ट ने ख़ुसूसी तहक़ीक़ाती टीम काले धन के ख़िलाफ़ तशकील दी है मर्कज़ के इख़तियार करदा मौक़िफ़ पर सख़्त एतराज़ रखती है। राम जेठमलानी ने कहा कि इस मामले की समाअत नहीं होसकती। ऐसी दरख़ास्त ख़ातियों की जानिब से की जानी चाहिए हुकूमत की जानिब से नहीं।

इस मामले पर एक दिन भी ग़ौर नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि मर्कज़ उन लोगों को बचाने की कोशिश कररहा है जिन्होंने बैरूनी ममालिक के बैंकों में काला धन जमा कर रखा है।

TOPPOPULARRECENT