Sunday , December 17 2017

किशनबाग़ पुलिस फायरिंग के महलोकीन की तदफ़ीन

किशनबाग़ में सिख पर्चम को मुबय्यना तौर पर नज़रे आतिश किए जाने के वाक़िया के बाद अश्रार की हंगामा आराई पर कंट्रोल के लिए की गई पुलिस फायरिंग के दो महलोकीन की जामि मस्जिद अर्श महल में बाद मग़रिब नमाज़ जनाज़ा अदा की गई।

किशनबाग़ में सिख पर्चम को मुबय्यना तौर पर नज़रे आतिश किए जाने के वाक़िया के बाद अश्रार की हंगामा आराई पर कंट्रोल के लिए की गई पुलिस फायरिंग के दो महलोकीन की जामि मस्जिद अर्श महल में बाद मग़रिब नमाज़ जनाज़ा अदा की गई।

बाद अज़ां मतसला क़ब्रिस्तान में तदफ़ीन अमल में आई। मुक़ामी अफ़राद और दुसरे सोगवारों की बहुत ही कम तादाद मौजूद थी लेकिन पुलिस की कसीर तादाद अतराफ़-ओ-अकनाफ़ के सारे इलाक़ा का पहरा दे रही थी।

मुक़ामी अफ़राद ने इस पर हैरत का इज़हार किया और कहा कि गंगा जमुनी तहज़ीब के इस शहर में ये बदनुमा दाग़ रौनुमा हुआ है जहां एक तरफ़ पुलिस ने अश्रार को खुली छूट दे रखी है तो दूसरी तरफ़ जनाज़ा की तदफ़ीन के लिए पहूंचने वालों का मुहासिरा किया जा रहा है।

महलोकीन के मकानात को भी पुलिस और दुसरे सेक्योरिटी फोर्सेस के मुहासिरा में लिया जा चुका है। एक मुक़ामी शख़्स ने ब्रहमी के साथ सवाल किया कि क्या ये फ़लस्तीन या कश्मीर है या फिर गहवारा अमन हैदराबाद है? इस पुरअमन इलाके में पुलिस का एसा रवैय्या क़ाबिल-ए-मुज़म्मत है। साइबराबाद पुलिस कमिशनर सी वि आनंद ने तदफ़ीन की निगरानी की। जवाइंट कमिशनर गंगाधर इलाके में कैंप किए हुए थे। ए पी एस पी की ख़ुसूसी बटालियन इलाके में चौकस थीं जबकि पुलिस मुलाज़िमीन वीडियोग्राफी में मसरूफ़ थी और क़ब्रिस्तान के रास्ते पर आँसू गैस बरसाने वाली गाड़ी ताय्युनात थी।

TOPPOPULARRECENT