किसानों को आराज़ीयात ( जमीने) वापस दी जाएगी : ममता बनर्जी

किसानों को आराज़ीयात ( जमीने)  वापस दी जाएगी : ममता बनर्जी
अब जबकि कोलकता हाईकोर्ट सिंगूर फेड डेवलपमेंट एक्ट को ग़ैर आईनी ( कानूनी) क़रार दिया है । इसकी रोशनी में वज़ीर-ए-आला (मुख्य मंत्री) मग़रिबी ( पश्चिम) बंगाल ममता बनर्जी ने आज एक अहम ब्यान देते हुए कहा कि इनकी हुकूमत किसानों के साथ है और कि

अब जबकि कोलकता हाईकोर्ट सिंगूर फेड डेवलपमेंट एक्ट को ग़ैर आईनी ( कानूनी) क़रार दिया है । इसकी रोशनी में वज़ीर-ए-आला (मुख्य मंत्री) मग़रिबी ( पश्चिम) बंगाल ममता बनर्जी ने आज एक अहम ब्यान देते हुए कहा कि इनकी हुकूमत किसानों के साथ है और किसानों की आराज़ीयात ( जमीने) वापस करने अपने वायदे की पाबंद है ।

हाईकोर्ट के फ़ैसला के बाद असेंबली की इमारत के क़रीब अख़बारी नुमाइंदों ( पत्रकारों) से बात करते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि सिंगूर के ऐसे किसान जो अपनी आराज़ीयात ( जमीने) वापस लेना चाहते हैं उन्हें आराज़ीयात ( जमीनें) वापस कर दी जाएंगी और रियास्ती हुकूमत ( राज्य सरकार) अपने वायदे की पाबंद है ।

याद रहे कि टाटा मोटर्स को इस के नैनो कार प्रोजेक्ट के लिए जो आराज़ीयात ( जमीने) हवाले की गई थी वो हुकूमत ( सरकार) ने वापस ले ली है । ममता बनर्जी ने कहा कि हुकूमत हमेशा से किसानों के साथ रही है और हमेशा रहेगी । आख़िर में किसानों की ही जीत होगी । उन्हें इस बात का सद फ़ीसद ( शत प्रतिशत) यक़ीन है। ममता ने अलबत्ता कोर्ट के फ़ैसला पर कोई तब्सिरे से इनकार कर दिया।

Top Stories