Monday , November 20 2017
Home / India / कुछ ‘गुंडे’ मिल कर चला रहे हैं देश : ममता बनर्जी

कुछ ‘गुंडे’ मिल कर चला रहे हैं देश : ममता बनर्जी

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार के खिलाफ आज खूब आग उगला. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को गुंडा तक कह डाला. दीदी ने अपने संबोधन में कहा, ‘कुछ गुंडे मिल कर देश चला रहे हैं. हम उनके नौकर नहीं हैं.’ कौन क्या खायेगा और क्या पहनेगा, यही लोग तय कर रहे हैं. भाजपा के नेता और कार्यकर्ता हजारों हजार भ्रष्टाचार कर रहे हैं. उनके खिलाफ सीबीआइ, इडी कोई कार्रवाई नहीं करती. गोरक्षा के नाम पर आज गोराक्षस तैयार किये जा रहे हैं.

21 जुलाई को शहीद दिवस पर धर्मतल्ला की सभा से केंद्र के खिलाफ आग उगला. उन्होंने बिना नाम लिये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को गुंडा तक कह डाला. दीदी ने कहा कि भाजपा की गलत नीतियों को बरदाश्त नहीं करेंगे. उन्होंने एलान किया कि वह भारतीय जनता पार्टी को खदेड़ने के लिए एक आंदोलन की शुरुअात करेंगी. 9 अगस्त से 30 अगस्त तक देशव्यापी ‘बीजेपी भारत छोड़ो’ आंदोलन चलेगा.

ममता दी ने सभी दलों से इस आंदोलन को अपना समर्थन देने की अपील की. उन्होंने कहा, ‘हम रॉयल बंगाल टाइगर हैं. तृणमूल को पूरे देश को दिशा दिखानी होगी. उसे पूरे देश को प्रेरित करना होगा. हम अपने राष्ट्र के लिए लड़ेंगे और पूरी मजबूती के साथ अपना पक्ष रखेंगे.’

ममता दी ने केंदर् की नरेेंद्र मोदी सरकार पर जोरदार हमला बोला. उन्होंने कहा कि विरोधी दलों को डराया-धमकाया जा रहा है, दीदी ने पूछा, ‘नारदा मामला क्यों बंद नहीं हो रहा? 21 जुलाई के पहले सुब्रत मुखर्जी, फरहाद को बुलाया गया था.’ उन्होंने कहा कि नोबेल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन भी दिल्ली की सरकार की आंखों में खटक रहे हैं. उन पर भी कभी भी कोई कार्रवाई हो सकती है.

तृणमूल सुप्रीमो ने कहा कि वर्ष 2019 के चुनाव में भाजपा को एक भी सीट नहीं जीतने देंगी. उन्होंने कहा कि भाजपा जितने हमले करेगी, तृणमूल कांग्रेस उतनी ही तेजी से बढ़ेगी. उन्होंने कहा कि सारधा, नारदा मामले की आड़ में तृणमूल नेताअों को प्रताड़ित किया जा रहा है.

ममता ने कहा, ‘केंद्र को ऐसा लगता है कि ऐसा करके वह लोगों को अपमानित करेगा. लेकिन, हम डरनेवाले नहीं हैं. हम भी उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा करेंगे.’ उन्होंने कहा कि गुजरात और बांग्लादेश की तसवीरें दिखा कर पश्चिम बंगाल में हिंसा भड़का रहे हैं. ऐसी किसी भी कोशिश को नाकाम कर देंगे.

गुजरात के हीरा पर 3 फीसदी टैक्स और बंगाल के जीरा पर 14 फीसदी

ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर पश्चिम बंगाल सरकार से भेदभाव करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिस गुजरात से आते हैं, वहां के हीरा पर 3 फीसदी टैक्स लगता है, जबकि बंगाल के जीरा पर 14 फीसदी का टैक्स वसूला जाता है.

ममता दी ने कहा कि नोटबंदी के कारण बड़ी संख्या में उद्योग संस्थान बंद हो रहे हैं. हमारे देश की अर्थव्यवस्था चौपट हो गयी है. लोगों को नौकरी तो मिल नहीं रही है, उल्टे जो लोग कहीं काम कर रहे हैं, उनकी नौकरी खत्म हो रही है. बैंकों का एनपीए बढ़ रहा है. यह भविष्य के लिए खतरे के संकेत हैं.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि आज देश में आपातकाल से ज्यादा बुरे हालात हैं. चुन-चुन कर राजनीतिक दलों को निशाना बनाया जा रहा है. हमारी तरह नैतिकता का पालन करनेवाली कोई पार्टी देश में नहीं बची है.

भविष्य की नयी दिशा तय करते हुए दीदी ने कहा, ‘आइए, किसी भी तरह की सांप्रदायिक हिंसा को रोकने का शपथ लें.’ उनके इतना कहते ही वहां मौजूद जनसमूह ने हाथ उठा कर उनका समर्थन किया. ममता दी ने कहा कि अगले साल हम शहीदों की 25वीं बरसी मनायेंगे. हम 21 जुलाई, 1993 के गोलीकांड में जान गंवानेवालों को श्रद्धांजलि देंगे. हर साल 21 जुलाई को शहीदों की याद में ममता बनर्जी के नेतृत्व में इस कार्यक्रम का आयोजन होता है, जिसमें लाखों लोग शामिल होते हैं.

इन्हीं लाखों लोगों को संबोधित करते हुए ममता दी ने कहा, ‘आइए, किसी भी तरह की सांप्रदायिक हिंसा को रोकने का शपथ लें.’ उनके इतना कहते ही वहां मौजूद जनसमूह ने हाथ उठा कर उनका समर्थन किया.

यहां बताना प्रासंगिक होगा कि 21 जुलाई, 1993 को कोलकाता पुलिस की गोलियों के शिकार हुए 13 युवाअों की याद में हर साल धर्मतल्ला में आयोजित होनेवाले इस सम्मेलन में लाखों लोग शामिल होते हैं. दूर-दराज के अलग-अलग जिलों से भारी संख्या में लोग एक दिन पहले ही कोलकाता पहुंच जाते हैं.

कोलकाता में श्याम बाजार, हाजरा, हावड़ा, सियालदह, गिरीश पार्क, बिड़ला तारामंडल, मिलन मेला और हाजरा से जुसूल निकला. ये सभी धर्मतल्ला पहुंच चुके हैं. स्थानीय स्तर पर सुबह नौ बजे से ही जुलूस निकलने लगा था. सभी लोगों की एक ही मंजिल थी, धर्मतल्ला.दूर-दराज से आये तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों के लिए रहने और खाने की व्यवस्था के साथ-साथ उनके मनोरंजन की भी व्यवस्था की गयी थी. अलग-अलग जिले से आये कार्यकर्ताअों ने भी अलग-अलग कार्यक्रम प्रस्तुत किये. कोलकाता में पश्चिम बंगाल का हर रंग देखने को मिला.

ममता बनर्जी से पहले अभिषेक बंद्योपाध्याय, सुदीप बंद्योपाध्याय, पार्थ चटर्जी, सुब्रत मुखर्जी, विनय बर्मन, बॉबी हाकिम, शुभेंदु अधिकारी और शांता क्षेत्री ने संबोधित किया. इस अवसर पर पश्चिम बंगाल के मशहूर गायक नचिकेता ने भी अपनी प्रस्तुति दी. इससे पहले ममता बनर्जी द्वारा लिखित और स्वरबद्ध कविता लगातार बज रहा था.

TOPPOPULARRECENT