Monday , December 11 2017

कुछ रोटी के लिए रोहिंग्या मुस्लिम महिलाएं वेश्यावृत्ति के लिए मजबूर

म्यांमार से भाग कर आये मुसलमान शरणार्थियों की स्थिति दिन ब दिन दयनीय होती जा रही है| वहां से बौद्ध ख़तरे से बचकर आये यहाँ नए ख़तरे का सामना कर रहे हैं जो बेहद ख़तरनाक और शर्मसार है| बांग्लादेश में रह रहे शरणार्थी को भोजन और तमाम ज़रूरतों से वंचित हैं| एक रिपोर्ट में चौंका देने वाला मामला सामने आया है| रिपोर्ट के अनुसार रोहिंग्यी महिलाएं अपना खाना पूर्ती के लिए वैश्यावृत्ति करने पर मजबूर हो गयीं हैं| हालाँकि ऐसा माना जाता है की उन्हें इसके लिए मजबूर किया जाता है|

अगस्त से अब तक लगभग 6 लाख मुस्लिम रोहिंग्या बांग्लादेश में सीमा के रास्ते से आ चुके हैं|  बांग्लादेश के कुछ शिविरों में वैश्यावृत्ति का मामला ज़्यादा सामने आया है| नूर के अनुसार जो एक फिक्सर के रूप में काम करता है उसका कहना है कि  कम से कम 500 रोहिंग्या वेश्याएं कुटूपलोंग शिविर में रहते हैं। यह शिविर 1992 में स्थापित किया गया था। यह सबसे बड़ा शिविर है|

संयुक्त राष्ट्र की जनसंख्या एजेंसी यूएनएफपीए में लिंग आधारित हिंसा के एक विशेषज्ञ सबा ज़ारीव का कहना है “सेक्स वर्कर की गिनती नहीं कर सकते हैं उनकी संख्याओं का आना मुश्किल है और हम आंकड़े एकत्र नहीं करते हैं कि शिविरों में कितने सेक्स कार्यकर्ता हैं।” महिलाएं अन्य रोहिंग्या के साथ सोती नहीं हैं बल्कि उनके बांग्लादेशी ग्राहकों को शिविरों के बाहर से मिलती हैं। एक ऐसी लड़की 18 साल की रेना है, जो पिछले दशक से शिविर में रहती है। दो साल पहले शराब से शादी कर ली थी। वह उसके पति द्वारा गलत व्यवहार और पीटा गया था उसके अपमानजनक पति ने उसे छोड़ दिया जब उसने अपने पहले बेटे को जन्म दिया जब उसका बच्चा खिलाना असंभव हो गया, तो उसने एक सेक्स वर्कर बनने का फैसला किया। वह कहती है कि मुझे पैसों की ज़रूरत थी|

एक और लड़की रोमिदा को भूख और कुपोषित छोड़ दिया गया था और वेश्यावृत्ति को एक ही तरह से बचा जा सकता था। रोमिदा ने कहा, ‘मेरे पास कोई विकल्प नहीं था, जो अपने पहले क्लाइंट से 1,000 रुपये कमाते थे। वह कहती है कि मौजूदा दर 200 रूपये है और फिक्सर इसके आधा हिस्सा लेता है। उनके क्लाइंट्स विश्वविद्यालय के छात्रों से लेकर स्थानीय नेता तक सभी लोग शामिल हैं|

TOPPOPULARRECENT