Monday , December 11 2017

कुपोषण भारत का सबसे बड़ा स्वास्थ्य खतरा, वायु प्रदूषण दूसरे नंबर पर!

नई दिल्ली: 1990 के बाद से भारत में बाल और मातृ कुपोषण भारत का सबसे बड़ा स्वास्थ्य खतरा बनता जा रहा है, जबकि दुनिया की सबसे पुरानी चिकित्सा पत्रिकाओं में से एक में हाल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, हवा की गुणवत्ता खराब होती जा रही है।

लैनसेट जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट में पाया गया है कि कुपोषण और बढ़ते वायु प्रदूषण, आहार जोखिम, उच्च सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर और मधुमेह के अलावा 2016 में भारत में अन्य प्रमुख जोखिम कारक थे। 1990 में, वायु प्रदूषण देश में तीसरा सबसे बड़ा जोखिम कारक था लेकिन यह 2016 में दूसरे स्थान पर स्थानांतरित हो गया है।

रिपोर्ट में महामारी संबंधी संक्रमण में बदलाव का भी विश्लेषण किया गया है, चिकित्सा राज्यों के माध्यम से लाए गए मृत्यु दर में बदलाव पूरे भारतीय राज्यों में है।

निष्कर्षों के मुताबिक, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश और हरियाणा सहित अविकसित राज्यों में कम महामारी संक्रमण के स्तर (ईटीएल) दर्ज किए गए हैं और इन जोखिम वाले कारकों से स्वास्थ्य संबंधी बोझ से ग्रस्त हैं।

दिल्ली सबसे प्रदूषित शहरों में से एक हो सकता है लेकिन बिहार जैसे राज्यों की तुलना में यह हल्के तौर पर कम स्वास्थ्य प्रभाव का सामना करता है। यदि वायु प्रदूषण के कारण जीवन के वर्षों की गणना की जाती है या जो चिकित्सा विशेषज्ञ विकलांग व्यिक्त जीवन काल (डीएएलएआई) कहते हैं, तो दिल्ली में बिहार (4308) और उत्तर प्रदेश (4390) की तुलना में डीएएलएआई दर 1890 है।

दिल्ली के लिए डेटा का विश्लेषण करने वाले विज्ञान और पर्यावरण केंद्र (सीएसई) के एक शोधकर्ता, ने कहा, “कार्डियोवैस्कुलर रोग, क्रोनिक श्वसन रोग (सीओपीडी), और कैंसर सहित वायु प्रदूषण से उत्पन्न होने वाले रोगों में 1990 के बाद से नाटकीय वृद्धि दिखाई देते हैं। 1990 में सीओपीडी बीमारी के प्रमुख कारणों में 13वें स्थान पर था और जीवन के वर्षों में खो दिया था। लेकिन यह अब 3 रैंक तक बढ़ गया है।

इसी प्रकार, इस्केमिक हृदय रोग जो वायु प्रदूषण से काफी प्रभावित है, रैंक 5 से नंबर 1, मधुमेह रैंक 22 से रैंक 5 तक और रैंक 16 से बढ़कर 15 हो गया है। इस तरह के बदलावों के कारण, भार्गव कृष्ण, पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया के रिसर्च फेलो ने कहा, “इन राज्यों की आबादी में अधिक कॉमरेबिडाइटी हो सकती है – मुख्य रोग से संबंधित अतिरिक्त रोग या विकार मौजूद हैं। इन राज्यों में वायु प्रदूषण के लिए प्रमुख योगदानकर्ता ठोस ईंधन का प्रयोग भी अधिक है।”

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) और इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ मैट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन (आईएचएमई) के नेतृत्व में अध्ययन करने वाले मेडिकल विशेषज्ञों ने पुष्टि की कि दस्त और अन्य संचारी रोगों की वजह से मृत्यु और विकलांगता की संख्या में गिरावट आई है, लेकिन बीमारियों से जुड़े हुए हैं वायु प्रदूषण और धूम्रपान सहित, दिल की बीमारियों सहित, में काफी वृद्धि हुई है।

लैनसेट आयोग द्वारा जारी एक अन्य रिपोर्ट में कहा गया है कि वायु और जल प्रदूषण के कारण प्रतिवर्ष 9 मिलियन से अधिक मौत दुनिया भर में होती है।

वायु प्रदूषण 6 मिलियन से अधिक मौतों में योगदान करने वाली सूची में सबसे ऊपर है। भारत सबसे खराब प्रभावित देशों में से एक है जहां बिगड़ती परिवेश वायु की गुणवत्ता के कारण 1.9 मिलियन लोगों की मौत हो चुकी है।

TOPPOPULARRECENT