Thursday , August 16 2018

कुमारस्वामी के मंच पर दिखा पूरा विपक्ष, इस वजह से नहीं शामिल हो सके ओवैसी

कर्नाटक में बुधवार को हुए कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार के शपथ ग्रहण के मौके पर पूरा विपक्ष एकजुट हुआ, लेकिन जेडीएस को समर्थन देने वाले एआईएमआईएम के नेता असदुद्दीन ओवैसी इस समारोह में शामिल नहीं हो सके. गौरतलब है कि जेडीएस को चुनाव जिताने के लिए ओवैसी ने न सिर्फ उसे समर्थन नहीं था  बल्कि पार्टी के पक्ष में प्रचार भी किया था. लेकिन शपथ ग्रहण में वो नजर नहीं आए क्योंकि वे पिछले कई दिन से देश से बाहर हैं.

ओवैसी अगर देश में होते और समारोह में शामिल हुए होते तो मंच पर मौजूद विपक्ष के तमाम दिग्गजों के साथ उनकी मौजूदगी नए राजनीतिक समीकरणों का संकेत देती. तब ये जानना दिलचस्प होता कि बाकि विपक्षी नेता मंच पर उनके साथ कितने सहज हैं क्योंकि शपथ ग्रहण समारोह में इन तमाम नेताओं ने सिर्फ अपनी मौजूदगी भर नहीं दर्ज कराई बल्कि एक-दूसरे का हाथ पकड़कर जनता का अभिवादन किया जिनमें एक नया राजनीतिक संकेत छुपा हुआ है.

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष  ओवैसी ने कर्नाटक चुनाव में अपनी पार्टी के किसी उम्मीदवार को न लड़ाने का फैसला करके सबको चौंका दिया था, जबकि पहले उन्होंने करीब 35 मुस्लिम बहुल सीटों पर लड़ने का मन बनाया था. इसके लिए उन्होंने बाकायदा उम्मीवारों का चयन भी कर लिया था.

ओवैसी पर अक्सर बीजेपी को फायदा पहुंचाने के आरोप लगते रहे हैं. यूपी और बिहार में उनकी पार्टी के चुनाव लड़ने पर ये बातें कहीं गई थी. माना जाता है कि इसी के मद्देनजर उन्होंने कर्नाटक में पार्टी उम्मीदवार को उतारने के बजाए जेडीएस को समर्थन करने का फैसला किया. ओवैसी ने जेडीएस उम्मीदवारों को जिताने के लिए जमकर प्रचार भी किया.

कर्नाटक चुनाव नतीजों के ऐलान के बाद कांग्रेस द्वारा कुमारस्वामी को सीएम बनाने की पेशकश के बाद औवैसी ने ट्वीट करके कुमारस्वामी को बधाई दी थी. ओवैसी ने ट्वीट करके लिखा था, ‘मैंने एचडी कुमारस्वामी से बात की और उनकी पार्टी को जीत के लिए बधाई दी. मुझे पूरा भरोसा है कि बतौर सीएम संवैधानिक जिम्मेदारी को बेहतर तरीके से निभाएंगे.’

 

TOPPOPULARRECENT