Monday , December 11 2017

कुशवाहा की शमूलीयत उजलत में क्या हुआ फ़ैसला नहीं : बी जे पी

नई दिल्ली ०७ जनवरी (पी टी आई) दागदार साबिक़ बी एस पी क़ाइद बाबू सिंह कुशवाहा की पार्टी में शमूलीयत पर दाख़िली इज़हार-ए-नाराज़गी पर रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए बी जे पी ने कहा कि ये फ़ैसला उजलत में क्या हुआ फ़ैसला नहीं है और पार्टी अपने मौक़

नई दिल्ली ०७ जनवरी (पी टी आई) दागदार साबिक़ बी एस पी क़ाइद बाबू सिंह कुशवाहा की पार्टी में शमूलीयत पर दाख़िली इज़हार-ए-नाराज़गी पर रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए बी जे पी ने कहा कि ये फ़ैसला उजलत में क्या हुआ फ़ैसला नहीं है और पार्टी अपने मौक़िफ़ पर अटल है।

सदर बी जे पी नीतिन गडकरी भी पार्टी क़ाइदीन जैसे जूती अदित्य नाथ, मेनका गांधी, कीर्ति आज़ाद और दीगर के साथ जो कुशवाहा की शमूलीयत के मुख़ालिफ़ हैं, रब्त क़ायम रखे हुए हैं जबकि वो अपने फ़ैसला पर मज़बूती से क़ायम हैं।

गडकरी चाहते हैं कि इन क़ाइदीन से मुलाक़ात करके उन पर दीगर पसमांदा तबक़ात के क़ाइद कुशवाहा यक एहमीयत वाज़िह करदें कि उन्हें यू पी असैंबली इंतिख़ाबात से पहले पार्टी में क्यों शामिल किया गया है। बी जे पी कुशवाहा को उम्मीदवार बनाते हुए दीगर पसमांदा तबक़ात के राय दहिंदों की हमदर्दीयां हासिल करना चाहती है जो चीफ़ मिनिस्टर मायावती की सियासत के शिकार हैं। बी जे पी का ख़्याल हीका कुशवाहा को ओ बी सी क़ाइद होने की वजह से भी बरतरफ़ किया गया है।

TOPPOPULARRECENT