केंद्रीय केबिनेट ने सरकारी डॉक्टरों की रिटायरमेंट की उम्र 60 से बढ़ाकर 65 साल किया

केंद्रीय केबिनेट ने सरकारी डॉक्टरों की रिटायरमेंट की उम्र 60 से बढ़ाकर 65 साल किया

नई दिल्ली। मोदी सरकार ने सरकारी डॉक्टरों को तोहफा दिया है। देश में डॉक्टरों की कमी और स्वास्थ्य क्षेत्र को मजबूत करने के इरादे से केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। केंद्र सरकार ने सरकारी डॉक्टरों की रिटायरमेंट की उम्र बढ़ाकर 65 वर्ष करने का फैसला लिया है।

अब तक डॉक्टर 60 साल की उम्र में रिटायर होते थे। केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने इसकी जानकारी दी। प्रसाद ने मीडिया को बताया कि बैठक में डॉक्टरों के रिटायरमेंट की उम्र सीमा 65 साल करने का फैसला लिया गया है।

हालांकि इनमें वह डॉक्टर शामिल नहीं हैं जो सेंट्रल हेल्थ सर्विस से आते हैं। जुलाई में सरकार ने केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल और असम राइफल्स के जनरल ड्यूटी मेडिकल अफसरों की रिटायरमेंट की उम्र बढ़ाकर 65 वर्ष करने को मंजूरी दे दी थी।

केंद्रीय कैबिनेट के इस फैसले से डॉक्टर अब लंबे समय तक अपनी सेवाएं दे पाएंगे। देश के ग्रामीण इलाकों के लोग ज्यादातर सरकारी डॉक्टरों पर ही निर्भर हैं।

Top Stories