केंद्र सरकार ने कैट की माँग मानते हुए जीएसटी की वार्षिक रिटर्न की तारीख़ बढ़ाई

केंद्र सरकार ने कैट की माँग मानते हुए जीएसटी की वार्षिक रिटर्न की तारीख़ बढ़ाई

दिल्ली सहित देश भर के व्यापारियों को बड़ी राहत देते हुए केंद्रीय वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली ने कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्ज़ (कैट) की माँग को स्वीकार करते हुए वर्ष201718 की जीएसटी की वार्षिक रिटर्न दाख़िल करने की अंतिम तारीख़ 31 दिसम्बर 2018 से बड़ाकर 31 मार्च 2019 कर दी है । इस बारे में ज़रूरी अधिसूचना विभाग द्वारा जल्दजारी की जाएगी।

ज्ञातव्य है की कैट ने दो दिन पूर्व श्री जेटली से आग्रह किया था क्योंकि वार्षिक रिटर्न का प्रारूप अभी तक जीएसटी पोर्टल पर उपलब्ध ही नहीं हुआ है इस दृष्टि सेवार्षिक रिटर्न भरना मुश्किल है और इसलिए रिटर्न दाख़िल करने की तारीख़ 31 मार्च 2019 की जाए।

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीण खंडेलवाल ने सरकार के इस क़दम का स्वागत करते हुए कहा की व्यापारियों को इससे बहुत राहत मिलेगी क्योंकि जीएसटी की वार्षिक रीटर्नव्यापारियों के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं।

इसके ज़रिए पहले भरो गई रिटर्न को संशोधित किया जा सकता है जिससे इनपुट क्रेडिट का नुक़सान न हो और व्यापारियों पर टैक्स का कोईबक़ाया न निकाला जाए।

उन्होंने कहा की अब व्यापारियों को पर्याप्त समय मिलेगा जिसके अंदर वो अब तक भरी गई रिटर्न की जाँच कर सकते हैं और यदि कोई इनपुट क्रेडिट छूटगया है तो उसको प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकते हैं। इससे व्यापारियों को पूँजी का नुक़सान नहीं होगा।

Top Stories