Monday , November 20 2017
Home / Bihar News / केसी त्यागी अपनी औकात में रहें, मुसलमानों को बांटने की साजिश न करें: नज़रे आलम

केसी त्यागी अपनी औकात में रहें, मुसलमानों को बांटने की साजिश न करें: नज़रे आलम

दरभंगा: अमीरे शरीयत मौलाना वली रहमानी साहब के इस बयान पर कि धर्मनिरपेक्ष दलों ने मुसलमानों को  नजर अंदाज़ किया है। इस पर खुद को JDU का बड़ा नेता समझने वाले केसी त्यागी शायद अपनी औकात भूल चुके हैं और इतनी बड़ी हस्ती अमीरे शरियत हज़रत मौलाना वली रहमानी की शान में अभद्र भाषा का उपयोग कर साबित कर दिया कि वे मतलब परस्त हैं।

उक्त बातें ऑल इंडिया मुस्लिम जागरूकता कारवां के राष्ट्रीय अध्यक्ष नजरे आलम ने केसी त्यागी द्वारा अमीरे शरियत की शान में अपमानजनक बात किए जाने को लेकर की गई बैठक के दौरान कही. बैठक के दौरान उपाध्यक्ष नजरे आलम, पप्पू खान, मिर्जा निहाल बैग, सर्वर अली फ़ैज़ी, विजय कुमार झा, शाह इमाद दीन सर्वर, असद रशीद नदवी, मौलाना समी उल्लाह नदवी, साजिद कैसर जावेद करीम जफर आदि ने भी मौलाना पर किए गए अपशब्द के लिए जदयू को तत्काल माफी मांगने की बात कही . बैठक में नजरे आलम ने साफ शब्द में कहा कि जदयू भी मतलब परस्त पार्टी है केवल तथाकथित धर्मनिरपेक्षता का नारा देती है.

मोलाना महोदय ने कोई भी बात गलत नहीं कही. कया मौलाना वली रहमानी साहब द्वारा उठाए गए सवाल कि राज्यसभा की 57 सीटों पर एक भी मुसलमानों को राज्यसभा नहीं भेजा गया, गलत है? क्या नीतीश कुमार और लालू प्रसाद को एक भी मुस्लिम नेता नज़र नहीं आया कि उन्हें राज्यसभा भेजा जा सकता था. केसी त्यागी अपनी औकात से ऊपर उठकर बोल गए कि मौलाना वली रहमानी से जदयू को प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं तो मैं बताना चाहता हूँ कि मौलाना की जरूरत तो उन्हें हर वक़्त पड़ेगी। मौलाना के आगे उनकी खुद की औकात क्या है अच्छी तरह जानते हैं। केवल बंद कमरे में बैठकर प्रेस कॉन्फ्रेंस करके जनता को बेवकूफ नहीं बनाया जा सकता। अगर केसी त्यागी और जदयू ने तुरंत माफी नहीं मांगी तो मौलाना के इतने प्रशंसक हैं कि उनकी पार्टी में इतने सदस्य भी नहीं हैं सभी उन्हें औकात बताने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं और आगामी चुनाव में सबक भी सिखा सकते हैं. महागठबंधन ने पिछले विधानसभा चुनाव में मुसलमानों का 85 प्रतिशत वोट लेने के बाद मुसलमानों को केवल ठगने का ही काम किया। महान गठबंधन ने वोट मुसलमानों से लिया और मंत्रालय की बड़ी कुर्सी कांग्रेस, राजद और जदयू के तथाकथित नेताओं को दिया।

मुसलमानों को उसी समय समझ में आ गया था कि ये सभी पार्टियां धर्मनिरपेक्ष होने का ढोंग रच रही है उन्हें केवल मुस्लिम वोट बैंक दिखाई देता है और जब चुनाव का समय आता है तो खुद को मुसलमानों का हमदरद बनकर धर्मनिरपेक्षता का पाठ्यक्रम पढ़ाना शुरू कर देते हैं। जब कोई मौलवी या मुस्लिम नेता राजनीतिक दलों द्वारा मुसलमानों पर किए गए भेदभाव को उजागर करने की कोशिश या आवाज उठाते हैं या फिर यह कहें कि उनकी वास्तविकता को आम जनता के बीच लाने की कोशिश करते हैं तो उनके ऊपर यह तथाकथित राजनीतिक पार्टियां और सांप्रदायिक नेता कीचड़ उछालने शुरू कर देते हैं। लेकिन चुनाव आते ही क्यों ये सभी राजनीतिक पार्टियां और नेता वोट के लिए अल्पसंख्यक समुदाय के नेताओं की गुलामी और उनसे खुद को धर्मनिरपेक्ष साबित करने के लिए प्रमाणपत्र मांगते फिरते हैं .

मुस्लिम नेता भी अपनी हरकत में बदलाव लाएं क्योंकि मुस्लिम नेता अक्सर राजनीतिक दलों और नेताओं की चापलूसी और बधाई तक ही खुद को सीमित कर रखा है। केसी त्यागी की नापाक भाषा से मौलाना की शान में गुस्ताखी की गई है जो असहनीय है साथ ही केसी त्यागी मुसलमानों को बांटने की साजिश बंद करें वरना अंजाम भी भुगतने को तैयार रहें. मुसलमानों को चाहिए कि केसी त्यागी, जद यू महागठबंधन पर दबाव बनाए कि वह मौलाना की शान में जो गुस्ताखी की है और मुसलमानों को बांटने की साजिश शुरू कर रखी है उस पर माफी मांगे नहीं तो जदयू और महान एकता के खिलाफ अल्पसंख्यक एकजुट होकर आंदोलन शुरू करेगा।

TOPPOPULARRECENT