Saturday , December 16 2017

कैडबरी से नाराज मुस्लिम

मलेशिया के लोगों में कैडबरी और उसकी कंपनी क्राफ्ट फूड को ले कर काफी नाराजगी है| कैडबरी चॉकलेट के टेस्ट में खिंज़ीर का डीएनए मिला है| इस मामले के सामने आने के बाद मुस्लिम ताजिरों और सारफीन मुल्क भर में कैडबरी का बाइकाट कर रहे हैं | दरअ

मलेशिया के लोगों में कैडबरी और उसकी कंपनी क्राफ्ट फूड को ले कर काफी नाराजगी है| कैडबरी चॉकलेट के टेस्ट में खिंज़ीर का डीएनए मिला है| इस मामले के सामने आने के बाद मुस्लिम ताजिरों और सारफीन मुल्क भर में कैडबरी का बाइकाट कर रहे हैं | दरअसल मलेशिया और दिगर इस्लामी मुल्को में खाने पीने की चीजों का बाकायदा तौर पर टेस्ट होता रहता है ताकि इस बात को यकीन किया जा सके कि खानॆ वाली चीजे हलाल हैं |

इसी तरह के टेस्ट में पाया गया कि कैडबरी की दो चॉकलेट नियमों की खिलाफवर्जी कर रही हैं. इस बात के सामने आने के बाद कंपनी को बाजार से सभी चॉकलेट वापस लेनी पड़ी हैं |

हालांकि कैडबरी मलेशिया की बनाई गयी चीजें मुल्क में ही बिकती हैं लेकिन जानकारों का मानना है कि इस मामले से आसपास के मुल्को में भी कैडबरी की बिक्री पर असर पड़ेगा. खास तौर से इंडोनेशिया में कैडबरी को भरी नुकसान उठाना पड़ सकता है क्योंकि वहां की ज्यादातर आबादी मुस्लिम है |

मलेशिया में 800 स्टोर कैडबरी का बाइकाट कर रहे हैं और वे चॉकलेट के अलावा ओरियो कुकीज और रिट्स क्रैकर्स को भी दुकान में रखने से मना कर चुके हैं | मलेशिया की मुस्लिम कंज्यूमर्स एसोसिएशन के शेख अब्दुल करीम खदाइद ने क्वालालंपूर में प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, “इससे मलेशिया की सभी कंपनियों को सीख मिलेगी कि मुल्क में मसनूआत को ले कर सरगर्मी को समझें | ” उन्होंने कहा कि कंपनी को अपनी गलती के लिए माफी मांगनी चाहिए थी और हुक्म मिलने से पहले खुद ही सभी मसनूआत बाजार से हटा लेने चाहिए थे |

वहीं कैडबरी का कहना है कि वह मुल्क में इस्लामी मामलों के महकमा के साथ मिल कर काम कर रहा है और इस बात पर ध्यान दे रहा है कि मसनूआत हलाल नियमों के मुताबिक ही बनें | कंपनी ने कहा कि नए टेस्ट किए जा रहे हैं और उम्मीद है कि हफ्ते भर में नतीजे आ जाएंगे | हालांकि कैडबरी मलेशिया की तरजुमान ने मुल्क में चल रहे बाईकाट पर कोई भी तब्सिरे करने से इंकार कर दिया है |

TOPPOPULARRECENT