Saturday , December 16 2017

कैद हिंदुस्तानी मछेरों की रिहाई केलिए वज़ीर-ए-आज़म यकीन‌

तमिलनाडू और पडोचरी के मछेरों के एक वफ़द ने आज वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह से मुलाक़ात की जहां उन्होंने वज़ीर-ए-आज़म से इस्तिदा की कि मौसूफ़ पाकिस्तानी और श्री लंकाई जेलों में कैद‌ हिंदुस्तानी मछेरों की रिहाई केलिए म इक़दामात करें।

तमिलनाडू और पडोचरी के मछेरों के एक वफ़द ने आज वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह से मुलाक़ात की जहां उन्होंने वज़ीर-ए-आज़म से इस्तिदा की कि मौसूफ़ पाकिस्तानी और श्री लंकाई जेलों में कैद‌ हिंदुस्तानी मछेरों की रिहाई केलिए म इक़दामात करें।

वफ़द के कन्वीनर एम अलांगो ने बताया कि गुजरात के 280 मछेरे पाकिस्तानी जेलों में क़ैद हैं जबकि तमिलनाडू और पडोचरी से ताल्लुक़ रखने वाले 81 मछेरे मुख़्तलिफ़ श्री लंकाई जेलों में क़ैद-ओ-बंद की झेल रहे हैं। यही नहीं बल्कि पाकिस्तानी हुक्काम ने 780 हिंदुस्तानी कश्तियों को भी ज़ब्त करलिया है।

अलांगो ने अख़बारी नुमाइंदों से बात करते हुए कहा कि वज़ीर-ए-आज़म ने उन्हें यकीन‌ दिया कि वो इस मुआमला पर हमदर्दाना ग़ौर करते हुए मछेरों और कश्तियों की रिहाई केलिए मांग‌ करेंगे। अलांगो ने कहा कि वफ़द के नुमाइंदों से मर्कज़ी हुकूमत से इस्तिदा की कि तमिलनाडू और श्री लंकाई मछेरों के माबैन मुलाक़ात का एहतिमाम करवाया जाये।

हुकूमत तमिलनाडू भी इसी नौईयत की मुलाक़ात की ताईद ज़रूर करती है लेकिन इस बात की ख़ाहां है कि ये मुलाक़ात चेन्नई में हो। दूसरी तरफ़ श्रीलंका ये चाहता है कि ये मुलाक़ात श्रीलंका में हो। हम ने जब वज़ीर‍ ए‍ ख़ार्जा सलमान ख़ुर्शीद से मुलाक़ात की तो उन्होंने यकीन‌ दिया था कि CHOGM चोटी कान्फ़्रेंस के दौरान वो इस मुआमला को श्रीलंकाई हुक्काम के सामने पेश करते हुए मुम्किना तौर पर मुलाक़ात का एहतिमाम चेन्नई में करवाने की पूरी पूरी कोशिश करेंगे।

यहां इस बात का तज़किरा ज़रूरी है कि हिंदुस्तानी मछेरों पर श्री लंकाई बहरिया की जानिब से मुतअद्दिद हमलों के वाक़ियात ने तशवीश पैदा करदी थी जिस के बाद इस बात पर ज़ोर दिया जाने लगा कि दोनों ममालिक के मछेरों के दरमयान मुलाक़ात का एहतिमाम करवाते हुए आबनाए पाक में माही गेरी केलिए राह हमवार की जाये जो जारिया साल के आख़िरी महीने दिसम्बर में उम्मीद‌ है।

TOPPOPULARRECENT