Thursday , December 14 2017

कैपीटॆसन् फ़ीस वसूली पर एक करोड़ जुर्माने का मंसूबा

नई दिल्ली 18 नवंबर ( एजैंसीज़) तालीमी इदारों को कैपीटॆसन् फ़ीस तलब करने से रोकने के पेशे नज़र हुकूमत ने ये मंसूबा बनाया है कि अब उन से दोगुनी जुर्माने की रक़म वसूल की जाएगी और ये रक़म एक करोड़ रुपय होगी ।

नई दिल्ली 18 नवंबर ( एजैंसीज़) तालीमी इदारों को कैपीटॆसन् फ़ीस तलब करने से रोकने के पेशे नज़र हुकूमत ने ये मंसूबा बनाया है कि अब उन से दोगुनी जुर्माने की रक़म वसूल की जाएगी और ये रक़म एक करोड़ रुपय होगी ।

गुज़श्ता रोज़ मर्कज़ी काबीना ने टकनीकल एजूकेशनल इंस्टी टयूशंस , मैडीकल एजूकेशनल इंस्टी टयूशंस और यूनीवर्सिटीज़ बिल 2010 -ए-में तरमीम को मंज़ूरी देदी है जिस में इन इदारों के ज़रीये नाजायज़ तौर पर कैपीटॆसन् फ़ीस वसूल किए जाने पर रोक लगाने के इक़दामात किए गए हींओर इस साल के अवाइल में पार्लीमैंट के स्टैंडिंग कमेटी के फ़रोग़ वसाइल इंसानी के लिए किए गए सिफ़ारिशात के पेशे नज़र किया गया है ।

इस इक़दाम के तहत बल का नाम तबदील करके हाइर एजूकेशनल इंस्टी टयूशंस बिल 2011 -ए- करदिया गया है । वज़ारत फ़रोग़ इंसानी वसाइल के एक ब्यान में कहा गया है कि इस बल को मुतआरिफ़ कराने का मक़सद ये है कि कुछ तालीमी इदारों की तालीम के नाम पर लौट खसूट पर कंट्रोल करना है जो क़ाअदे और क़ानून की पाबंदी किए बगै़र बेजा तौर पर तालीम के नाम पर रक़म वसूल कररहे हैं।

इस बात की तवक़्क़ो ज़ाहिर की जा रही है कि बल के ज़रीया तलबा-ए-के साथ जारी इस्तिहसाल और उन्हें परेशान किए जाने के तरीक़ा-ए-कार पर रोक लगाई जा सकी।

TOPPOPULARRECENT