Wednesday , November 22 2017
Home / Featured News / कैराना विस्थापन: एनएचआरसी रिपोर्ट पर अल्पसंख्यक पियानल की आलोचना

कैराना विस्थापन: एनएचआरसी रिपोर्ट पर अल्पसंख्यक पियानल की आलोचना

मुजफ्फरनगर: राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के सदस्यों ने जिला शामली में कैराना से कई परिवारों के कथित नकल स्थान के बारे में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की रिपोर्ट पर यह कहते हुए आलोचना की है कि लोगों ने अपने तौर पर इस टाउन को छोड़ा है। कल शाम यहां मीडिया वालों से बातचीत में अल्पसंख्यक पियानल के दो सदस्यों प्रवीण और फरीदा अब्दुल्ला खान ने कहा कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की रिपोर्ट तथ्यों पर आधारित नहीं बल्कि इसके परिणाम स्वरूप सांप्रदायिक प्रकृति का माहौल पैदा होने की आशंका है।

इन सदस्यों ने कैराना और मुजफ्फरनगर का दौरा करने के बाद कहा कि कैराना से विस्थापन को सांप्रदायिक प्रकृति से नहीं जोड़ा जा सकता। उन्होंने कहा कि हिंदू और मुस्लिम दोनों समुदायों के लोग कैराना से नकल स्थान किए जिसका उद्देश्य अन्य स्थानों पर व्यापार के बेहतर अवसर पाता है। उन्होंने कहा कि जनता ने किसी विशेष समुदाय से डर के कारण विस्थापन नहीं की।

एनएचआरसी की जांच टीम ने यह निष्कर्ष किए थे कि कैराना से कई परिवारों ने वहां पर बिगड़ते लॉ एंड ऑर्डर और अपराध दर में वृद्धि से संबंधित जोखिम के कारण विस्थापन की है। इस टीम ने 2013 में यह निष्कर्ष निकाला था कि मुजफ्फरनगर के कैराना टाउन से 25 से 30 हजार सदस्यों मुस्लिम समुदाय इस भय के कारण अपना मूल स्थान छोड़ने पर मजबूर हुए कि उन्हें बहुसंख्यक समुदाय नुकसान पहुंचा सकती है।

TOPPOPULARRECENT