Friday , July 20 2018

कैराना BJP सांसद का बैकग्राउंड RSS से नहीं कांग्रेस से है

यूपी के शामली जिले के कैराना कस्बे से हिंदुओं के पलायन करने का दावा करने वाले हुकुम सिंह का बैकग्राउंड आरएसएस या भाजपा का नहीं बल्कि वे कांग्रेसी नेता भी रहे हैं। सेना में कैप्टन पद से रिटायर होने वाले सिंह ने 1961 में हुआ भारत-चीन युद्ध भी लड़ा था। सिंह ने हाल ही में दावा किया है कि एक समुदाय विशेष की दहशत और डर की वजह से कैराना से हिंदू परिवार पलायन कर रहे हैं। सिंह के इस दावे के बाद यूपी की सियासत गरमा गई। उनके दावे के बाद लोग उन्हें आरएसएस बैकग्राउंड का नेता समझ रहे थे, लेकिन ऐसा कुछ नहीं है। वे भाजपा के अलावा अन्य पार्टियों के साथ भी जुड़े रहे हैं।

गूर्जर जाति से ताल्लुक रखने वाले सिंह 1996 में भाजपा के साथ जुड़े थे। सिंह ने बाबरी मस्जिद विवाद से पहले 1989 और 1991 और उसके बाद 1993 में कांग्रेस के टिकट से चुनाव लड़ा था। वे राम मंदिर आंदोलन के वक्त भी कांग्रेस के नेता रहे थे। उन्होंने साल 1974 में विधायक बनकर राजनीति में एंट्री मारी। आपातकाल के वक्त भी वे कांग्रेस पार्टी के साथ जुड़े रहे। इसके बाद वे चौधरी चरण सिंह की पार्टी के साथ भी चले गए थे, लेकिन 1985 में फिर कांग्रेस विधायक तौर पर विधानसभा पहुंच गए। उन्हें वीरबहादुर सिंह की सरकार में राज्य मंत्री का दर्जा किया गया।

TOPPOPULARRECENT